Ram Bahal Chaudhary
Ram Bahal Chaudhary,Basti
Share

सबको माफी, पूर्व सैन्य सदस्यों और विदेशी बलों के साथ काम करने वालों सहित किसी से भी नहीं लेंगे बदला: बोला तालिबान

  • by: news desk
  • 17 August, 2021
 सबको माफी, पूर्व सैन्य सदस्यों और विदेशी बलों के साथ काम करने वालों सहित किसी से भी नहीं लेंगे बदला: बोला तालिबान

काबुल: Afghanistan Crisis: तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद का कहना है कि उनकी किसी से दुश्मनी नहीं है और अपने नेता के आदेश के आधार पर उन्होंने सभी को माफ कर दिया है| मुजाहिद ने कहा कि उन्होंने सभी को माफ कर दिया है और पूर्व सैन्य सदस्यों और विदेशी बलों के साथ काम करने वालों सहित किसी से भी बदला नहीं लेंगे। मुजाहिद ने कहा कि ''कोई उनके घर की तलाशी नहीं लेगा.''



तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने कहा कि,'' युद्ध के दौरान दुर्घटनावश लोगों और परिवारों को नुकसान हुआ और यह जानबूझकर नहीं किया गया और अनियंत्रित स्थिति में हुआ। । उन्होंने कहा कि,''अगर ऐसा हुआ है, तो यह दुर्भाग्यपूर्ण है| जल्द ही काबुल शहर में स्थिति सामान्य हो जाएगी|




मुजाहिद का कहना है कि वे जल्द ही एक ऐसे समझौते पर पहुंचेंगे, जिसके जरिए देश में इस्लामी सरकार की स्थापना होगी। मुजाहिद ने कहा कि काबुल की सुरक्षा में दिन-ब-दिन सुधार हो रहा है क्योंकि उनके बल विभिन्न स्थानों पर तैनात हैं। उन्होंने कहा कि,''विदेशी दूतावासों की सुरक्षा उनके लिए अहम है और वे यह संकल्प लेते हैं कि दूतावास पूरी तरह सुरक्षित रहेंगे.




तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने कहा, "काबुल में दूतावासों की सुरक्षा हमारे लिए महत्वपूर्ण है। हम सभी देशों को आश्वस्त करना चाहते हैं कि हमारे बल सभी दूतावासों, अंतर्राष्ट्रीय संगठनों और सहायता एजेंसियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए मौजूद हैं|




मुजाहिद का कहना है कि काबुल के बाहरी इलाके में पहुंचने के पहले दिन उन्होंने अपनी सेना को शहर में प्रवेश करने से रोक दिया, लेकिन कुछ लोगों ने स्थिति का दुरुपयोग किया और लोगों को लूटने का प्रयास किया। उनका कहना है कि अब लोग यह महसूस कर सकते हैं कि वे सुरक्षित रहेंगे।




मुजाहिद का कहना है कि इस्लामिक अमीरात दुनिया के तमाम देशों से वादा कर रहा है कि अफगानिस्तान से किसी देश को कोई खतरा नहीं होगा. उन्होंने कहा कि,'' अफ़गानों को लोगों के मूल्यों से मेल खाने वाले नियमों को लागू करने का अधिकार है; इसलिए, अन्य देशों को इन नियमों का सम्मान करना चाहिए।




मुजाहिद का कहना है कि वे इस्लाम के आधार पर महिलाओं को उनके अधिकार प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। उनका कहना है कि महिलाएं स्वास्थ्य क्षेत्र और अन्य क्षेत्रों में जहां जरूरत हो वहां काम कर सकती हैं। उनका कहना है कि महिलाओं के साथ कोई भेदभाव नहीं होगा।




तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने कहा कि,'' देश की अर्थव्यवस्था और लोगों की आजीविका में सुधार होगा। मुजाहिद का कहना है कि वे चाहते हैं कि सभी मीडिया संस्थान अपनी गतिविधियां जारी रखें। उनके पास तीन सुझाव हैं: कोई भी प्रसारण इस्लामी मूल्यों के विपरीत नहीं होना चाहिए, उन्हें निष्पक्ष होना चाहिए, किसी को भी ऐसा कुछ भी प्रसारित नहीं करना चाहिए जो हमारे राष्ट्रीय हितों के खिलाफ हो।




1990 के तालिबान और आज के तालिबान के बीच मतभेदों के बारे में एक सवाल के जवाब में, मुजाहिद ने कहा कि विचारधारा और विश्वास समान हैं क्योंकि वे मुस्लिम हैं, लेकिन अनुभव के संदर्भ में एक बदलाव है - वे (आज के तालिबान) अधिक अनुभवी हैं और एक अलग दृष्टिकोण रखते हैं। मुजाहिद ने कहा कि,'' तालिबान दुनिया को आश्वस्त कर सकता है कि अफगानिस्तान अब अफीम की खेती या नशीली दवाओं के कारोबार का केंद्र नहीं रहेगा, और उन्हें अफीम की खेती के विकल्प को बढ़ावा देने के लिए दुनिया के समर्थन की जरूरत है।






आप हमसे यहां भी जुड़ सकते हैं
TheViralLines News

ईमेल : thevirallines@gmail.com
हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें : https://www.facebook.com/TVLNews
हमें ट्विटर पर फॉलो करें: : https://twitter.com/theViralLines
चैनल सब्सक्राइब करें : https://www.youtube.com/TheViralLines

You may like

स्टे कनेक्टेड