Ram Bahal Chaudhary
Ram Bahal Chaudhary,Basti
Share

कांग्रेस का यूपी यूथ मेनिफेस्टो, 20 लाख सरकारी नौकरियों की गारंटी: छात्र संघ चुनाव की होगी बहाली, युवाओं के लिए किए ये बड़े एलान....पूरा पढ़ें...

  • by: news desk
  • 21 January, 2022
कांग्रेस का यूपी यूथ मेनिफेस्टो,  20 लाख सरकारी नौकरियों की गारंटी: छात्र संघ चुनाव की होगी बहाली, युवाओं के लिए किए ये बड़े एलान....पूरा पढ़ें...

लखनऊ: UP Assembly Election 2022: यूपी में विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने युवाओं के लिए घोषणापत्र जारी किया है| कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव तथा उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी ने आज यानी शुक्रवार को 'युवा घोषणापत्र' (Youth Manifesto) जारी किया| कांग्रेस ने इसे 'भर्ती विधान' नाम दिया है| राहुल गांधी ने कहा कि हमने आज भर्ती विधान कांग्रेस का युवा घोषणा पत्र जारी किया है। हम उत्तर प्रदेश में भी प्रतियोगी परीक्षाओं के शुल्क माफ करेंगे। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के सभी युवाओं के प्रति कांग्रेस की बड़ी जिम्मेदारी है। उत्तर प्रदेश के युवा बड़ी संख्या में लगातार रोजगार खो रहे हैं। इसके विपरीत सरकार कुछ भी नहीं कर रही है। सरकार तो कुछ उद्योगपतियों के हाथ मजबूत करने में लगी है।



कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि,'' आज इस विशेष पत्रकार वार्ता में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रांगण में आदरणीय राहुल गांधी जी का, आदरणीय प्रियंका गांधी जी का, पार्टी के संगठन महासचिव, वेणुगोपाल जी का, हमारी उत्तर प्रदेश में सीएलपी की नेता, आराधना मिश्रा तिवारी (मोना) जी का और आप सबका मैं स्वागत करता हूं।



उत्तर प्रदेश में नौजवानों की वस्तुस्थिति को लेकर अगर कोई संघर्ष कर रहा है, तो प्रियंका गांधी जी के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी उत्तर प्रदेश में वो संघर्ष कर रही है। देश में राहुल गांधी जी वो संघर्ष कर रहे हैं और आज एक विशेष दस्तावेज, जो इतिहास के पन्नों में अंकित होगा, वो लेकर हम आपके बीच में उपस्थित हैं। पर उससे पहले मैं अनुरोध करुंगा एक छोटा सा इस पूरे हालात को लेकर एक गीत है, पहले वो हम आपको दिखाएंगे, उसके बाद दस्तावेज का अनावरण होगा और फिर हम अपनी बात रखेंगे। (थीम सौंग दिखाया गया)



सुरजेवाला ने कहा कि हमारे उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के जुझारु अध्यक्ष, अजय कुमार लल्लू जी हमारे बीच में नहीं, क्योंकि वो रास्ते में फॉग के कारण लेट हो गए हैं। उन्होंने मुझे विशेष तौर से दूरभाष पर ये कहा कि मैं आपके समक्ष भी, प्रियंका जी और राहुल जी को भी ये बताऊं कि वो बहुत कीन थे और आज आना चाहते थे, क्योंकि रास्ते में वैदर (Weather) खराब है, तो पहुंच नहीं पाए। तो बगैर किसी विलंब के मैं अनुरोध करुंगा कि अब इस दस्तावेज का अनावरण राहुल गांधी जी और प्रियंका गांधी जी करें। (श्री राहुल गांधी जी और श्रीमती प्रियंका गांधी जी द्वारा ‘भर्ती विधान' का अनावरण किया गया)




सुरजेवाला ने कहा कि अब मैं अनुरोध करुंगा, जो देश के नौजवानों के लिए लगातार लड़ाई लड़ते आए हैं, जिन्होंने बगैर किसी डर के और एक संकल्प के साथ इस देश के युवाओं की लड़ाई लगातार लड़ी है आदरणीय, राहुल गांधी जी से कि वो अपनी बात आपके समक्ष रखें।



श्री राहुल गांधी ने कहा - नमस्कार! आप सबका बहुत-बहुत स्वागत। कांग्रेस पार्टी के जो हमारे नेता स्टेज पर हैं, साइड पर बैठे हैं, आप सबका भी बहुत-बहुत स्वागत।



योगी सरकार के कार्यकाल में तकरीबन 16 लाख युवाओं ने रोजगार खोया

राहुल गांधी ने कहा,''यूपी में चुनाव हैं और देश की और उत्तर प्रदेश की समस्या हिंदुस्तान के हर युवा को मालूम है। कांग्रेस पार्टी आज यहाँ उत्तर प्रदेश का युवा मेनिफेस्टो रिलीज कर रही है। कांग्रेस पार्टी के खोखले शब्द नहीं हैं, सोच ये है कि यूपी के युवा का जो भविष्य है, उसके लिए एक स्ट्रैटेजी, रोजगार हम आपको कैसे दिलवाएंगे, किस प्रकार से हम आपको रोजगार दिलवाएंगे, ये बताया जाए। ये नहीं कि हम आपको कह दें कि भाई, हम आपको 10 लाख, 20 लाख, 30 लाख, 40 लाख रोजगार देंगे, मगर कैसे देंगे, ये इस मेनिफेस्टो में हमने लिखा है। ये मेनिफेस्टो सिर्फ कांग्रेस पार्टी की आवाज नहीं है, इस मेनिफेस्टो को बनाने के लिए कांग्रेस पार्टी ने यूपी के युवाओं से बात की है, मीटिंग की हैं और जो उनके विचार हैं, वो हमने इस मेनिफेस्टो में डाले हैं। उत्तर प्रदेश में हर रोज, हर 24 घंटे तकरीबन 880 युवा अपना रोजगार खोते हैं। बीजेपी के पिछले पांच सालों में तकरीबन 16 लाख युवाओं ने रोजगार खोया है।



कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा,आपको याद होगा प्रधानमंत्री ने कहा कि हम आपको हर साल दो करोड़ रोजगार देंगे। सच्चाई पूरे देश को दिख रही है। क्या हो रहा है, क्योंकि देश का पूरा का पूरा धन दो -तीन बड़े उद्योगपतियों के हाथों में दिया जा रहा है।



राहुल गांधी ने कहा,''यूपी में चुनाव हैं और यूपी के युवाओं को एक नए विजन की जरुरत है और कांग्रेस पार्टी, सिर्फ कांग्रेस पार्टी ही उत्तर प्रदेश को ये विजन दे सकती है। हम नफरत नहीं फैलाते हैं। हम लोगों को जोड़ने का काम करते हैं और जो युवाओं में कॉन्फिडेंस है और शक्ति है, उस शक्ति के साथ हम एक नया उत्तर प्रदेश बनाना चाहते हैं। तो ये हमारा लक्ष्य है।



कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा,''मैं यूपी की टीम को, प्रियंका जी को, मोना जी को, लल्लू जी को और हमारे बाकी जो कार्यकर्ता हैं और जो नेता हैं, उनको दिल से धन्यवाद करना चाहता हूं कि आप पूरे दम से लड़ाई लड़ रहे हैं, विचारधारा की लड़ाई लड़ रहे हैं और आप उत्तर प्रदेश के भविष्य की लड़ाई लड़ रहे हैं। धन्यवाद।



यूपी का युवा दुःखी हैं, त्रस्त हैं, क्वालिफाइड हैं, लेकिन नौकरियाँ नहीं मिलती
श्रीमती प्रियंका गांधी ने कहा कि नमस्कार, आप सबका बहुत-बहुत स्वागत। जैसे राहुल जी ने कहा, ये जो 'भर्ती विधान' है, इसको बनाने के लिए हमारे नेताओं ने, हमारे कार्यकर्ताओं ने उत्तर प्रदेश के जिले-जिले में युवाओं से बात की, उनसे समझने की कोशिश की कि आपकी सबसे बड़ी समस्याएं क्या है, आपके दुःख क्या हैं, किस तरह से हम आपके लिए एक उज्जवल भविष्य बना सकते हैं? उन्हीं चर्चाओं में से निकला हुआ, जो सार था, जो मुद्दे थे, वो इस भर्ती विधान' में हैं। इसे ‘भर्ती विधान' इसलिए कहा गया, क्योंकि उत्तर प्रदेश में सबसे बड़ी समस्या भर्ती की ही है। जहाँ-जहाँ हम गए हैं, जिन नौजवानों से बात की है, उनकी पीड़ा बाहर आई है। वो दुःखी हैं, त्रस्त हैं, क्वालिफाइड हैं, लेकिन नौकरियाँ नहीं मिलती, बड़ी-बड़ी घोषणाएं तो होती हैं, पर रोजगार नहीं दिए जाते। कोई कहता है 25 लाख नौकरियाँ दिलवाएंगे, कोई कहता है 20 लाख, उनको कभी ये नहीं समझाया जाता कि कैसे होगा, किस तरह से ये रोजगार आपके लिए बनाए जाएंगे।



20 लाख नौकरियां
प्रियंका गांधी ने कहा कि,''हमारा ये प्रयास रहा है कि जो नौजवानों की समस्याएं हैं, इसी 'भर्ती विधान' में उनको सुलझाने का हमने एक खाका तैयार किया है। तो इसमें जिस तरह से मैं इसके कुछ डीटेल्स आपको दूंगी। जिस तरह से रोजगार की समस्या है, हम कह रहे हैं, कांग्रेस पार्टी ने घोषणा की है कि हम 20 लाख रोजगार दिलवाएंगे, जिसमें से 8 लाख रोजगार, जो आरक्षण के प्रावधान हैं, उनके तहत ही महिलाओं को भी मिलेंगे। अब ये कैसे मिलेंगे, वो हमने यहाँ कहा है।



प्रियंका गांधी ने कहा कि,'हमें मालूम है कि रोजगार के विषय में और खासतौर से भर्ती के विषय में जो परीक्षाएं होती हैं, उनका जो तरीका है, जिस तरह से उनको किया जा रहा है, जितने घोटाले हैं, जिस तरह से पेपर लीक किए जाते हैं, जिस तरह से परीक्षा देने के बाद वो परीक्षा रद्द कर दी जाती है, इससे नौजवानों में बहुत ही पीड़ा है, इसलिए एक पूरा सेक्शन इस भर्ती विधान में हमने डैडिकेट किया है, इसलिए कि किस तरह से ये परीक्षाएं जो हैं, इनमें जो समस्याएं आ रही हैं, जो घोटाले हो रहे हैं, उनको हम किस तरह से दूर करेंगे।



रिश्ता, जो टूट गया है, नौजवानों का, सरकार में और इस बात में कि उनको रोजगार मिलेगा, उसको हम किस तरह से अब दोबारा निभा पाएं। इस विधान में भविष्य निर्माण के लिए कि अगर कोई युवा अपना बिजनेस शुरु करना चाहता है, छोटा-मोटा काम करना चाहता है, उसका कोई हुनर है, उसको कैसे हम बढ़ावा दें, उसकी कैसे हम मदद करें, उसका समर्थन हम कैसे करें, वो भी इसमें एक अलग सेक्शन में है।



कांग्रेस नेता ने कहा कि,''एक और सेक्शन है, 'भागीदारी'। आपको मालूम होगा कि कुछ सालों से उत्तर प्रदेश के विश्वविद्यालयों में चुनाव नहीं होते और पूरी तरह से जो भागीदारी है, युवाओं की, वो नहीं हो रही है, तो इन सब बातों को एड्रेस करते हुए ये है, ये सेक्शन है और एक आखिरी सेक्शन है, जिसमें हमने भलाई की बात की है, जिसमें हमने, जो नौजवानों की स्वास्थ्य की समस्याएं हैं, और जो रीक्रिएशन की समस्याएं हैं, उनको हमने एड्रेस किया है, इनकी कुछ डीटेल मैं आपको देना चाह रही हूँ।



प्राथमिक विद्यालय में 1.50 लाख खाली पद भरे जाएंगे: प्रियंका गांधी
कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने कहा कि,उत्तर प्रदेश में 7 करोड़ युवाओं की आकांक्षाओं का ये दस्तावेज है। इसमें हमने जैसे कहा कि 20 लाख सरकारी नौकरियाँ आरक्षण प्रावधानों का पालन करते हुए हम दिलवाएंगे। इसमें प्राथमिक विद्यालयों में डेढ़ लाख शिक्षकों की भर्ती है, जो पद खाली पड़े हैं, उनको भरा जाएगा। 



माध्यमिक में 38 हजार, उच्चत्तर में 8 हजार पद भरे जाएंगे: प्रियंका गांधी

माध्यमिक विद्यालयों में 38 हजार शिक्षकों के पद खाली हैं, उनको भरा जाएगा। उच्च शिक्षा में 8 हजार शिक्षकों के पद खाली हैं, इन्हें भरा जाएगा। डॉक्टरों के 6 हजार पद खाली हैं, इनको भरा जाएगा। 



पुलिस के 1 लाख पद भरे जाएंगे, 20 हजार आंगनबाड़ी और 27 हजार सहायिकाओं के पद पर भर्ती होंगे

पुलिस विभाग में 1 लाख पद रिक्त हैं, इन्हें भी भरा जाएगा। 20 हजार आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को और 27 हजार आंगनबाड़ी सहायिकाएं भी यहाँ पर नियुक्त हो सकती हैं, इनके भी पद खाली हैं, जो हम भरेंगे। 



संस्कृत शिक्षक 2 हजार और फिजिकल एजुकेशन के 32 हजार शिक्षक, 4 हजार उर्दू के शिक्षक

संस्कृत विद्यालयों में 2 हजार शिक्षकों की भर्ती कराई जाएगी। रुकी हुई जो भर्तियाँ हैं, 32 हजार फिजिकल एजुकेशन के जो शिक्षक हैं, उनकी भर्ती। 4 हजार उर्दू के शिक्षक, 12,460 शिक्षक भर्ती, जो पूरी नहीं की गई हैं, इन्हें पूरा किया जाएगा। 



इसके साथ-साथ जो ‘वन प्रोडक्ट, वन डिस्ट्रिक्ट' की जो पॉलिसी है, उसको रिलेक्स करके, जहाँ-जहाँ हुनर है, जहाँ-जहाँ सौ से ज्यादा एक ही इंडस्ट्री की यूनिट्स हैं, वहाँ पर उसे क्लस्टर डिक्लेयर किया जाएगा, उसमें पूरी सुविधाएं और जितने भी साधन, संसाधन हैं, वो दिए जाएंगे, ताकि उनका बढ़ावा हो। इसमें खासतौर से हम युवाओं पर फोकस करेंगे।



फॉर्म भरने के लिए फीस नहीं लगेगी: प्रियंका गांधी

भर्ती प्रक्रिया में जो नौजवानों का भरोसा टूटा है, उसको एक बार फिर बहाल करने के लिए जो प्रतियोगी परीक्षाएं हैं, उनके फॉर्म भरने की जो फीस है, वो कहीं भी नहीं लगेगी। तो फीस पूरी तरह से माफ होगी। परीक्षा देने के लिए जो बस-ट्रेन से यात्रा करनी पड़ेगी, वो भी मुफ्त होगी। 



जॉब कैलेन्डर बनाया जाएगा

प्रियंका गांधी ने कहा कि,''एक जॉब कैलेन्डर बनाया जाएगा, ये बहुत महत्वपूर्ण चीज है। जैसे मैंने कहा कि एक बहुत बड़ी समस्या है कि जब परीक्षाएं देते हैं, तो साल भर के लिए रिजल्ट नहीं आता, उसका कट ऑफ चेंज हो जाता है. परीक्षा देने के बाद या फिर पेपर लीक होता है, तो पूरी परीक्षा ही रद्द कर दी जाती है, तो इन समस्याओं को सुलझाने के लिए एक जॉब कैलेन्डर बनाया जाएगा, जिसमें परीक्षा की तारीख, इन्टरव्यू की तारीख, रिजल्ट की तारीख, नियुक्ति की तारीख पहले से दर्ज की जाएगी। इसका कड़ाई से पालन करवाएंगे और इसके उल्लंघन पर जुर्माना किया जाएगा। 



पेपर लीक को रोका जाएगा: प्रियंका गांधी

पेपर लीक को रोका जाएगा, किस तरह से सरकारी जगहों पर पेपर की छपाई होगी, लीक की स्थिति में कड़ी सजा होगी। तो इसके अलावा भी बहुत ऐसे हमने मुद्दे इस विधान में लिखे हैं और हम उन्हें पूरा करेंगे। जिस तरह से आज जो परीक्षाओं में, पेपरों में इतना घोटाला हो रहा है, इसको बंद करने के लिए हम परी तरह से अपना प्रयास करेंगे। जो आरक्षण का घोटाला है, जो 69 हजार शिक्षक भर्ती का है, उस तरह के घोटालों को रोकने के लिए, आरक्षण को सही से लागू कराने के लिए हर भर्ती के लिए सामाजिक न्याय पर्यवेक्षक और नियमों की अनदेखी पर कड़ी सजा होगी।



शिक्षा बजट बढ़ाया जाएगा, विश्वविद्यालयों में प्लेसमेंट सेल होगी
कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने कहा कि,'भविष्य के निर्माण के लिए अच्छी शिक्षा बहुत ही जरुरी होती है। आपको शायद मालूम होगा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने शिक्षा का जो बजट है, वो कम किया है। हम चाहते हैं कि उसको बढ़ाया जाए और अगर हमारी सरकार आएगी, तो उसे बढ़ाया जाएगा। ये अच्छे रोजगार के लिए, एक मजबूत भविष्य के लिए एक पहली सीढ़ी है, इसलिए जो विश्वविद्यालय हैं और कॉलेज हैं, उन सब में लाईब्रेरी, फ्री वाई फाई, लैब, हॉस्टल, मैस इन सब सुविधाओं को अपग्रेड किया जाएगा। विश्वविद्यालय और कॉलेज में रोजगार से सीधी जुड़ी प्लेसमेंट होगी, जो एडवांस में होगी।



छात्र संघ चुनाव की बहाली होगी, स्कॉलरशिप टाइम पर मिलेगी 

प्रियंका गांधी ने कहा कि,''इसी तरह से जब हमने भागीदारी की बात की तो लोकतंत्र की बहाली और एक इन्क्लूसिव प्रक्रिया कराने के लिए सभी कॉलेज और विश्वविद्यालय में छात्रावास चुनाव की बहाली होगी, दलित, ओबीसी, आदिवासी और ईडबल्यूएस के लिए प्री और पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप समय पर मिले, इसके लिए हमारा पूरा प्रयास होगा। उनका दायरा भी बढ़ाया जाएगा और राशि भी बढ़ाए जाने का हम पूरा प्रयास करेंगे। इस सुविधा के लिए एक सिंगल विंडो स्कॉलरशिप पोर्टल खोला जाएगा, जिसके तहत एप्लाई करना भी आसान होगा और स्कॉलरशिप में ट्रांस्पेरेंसी भी आएगी।



सफाईकर्मियों के परिवारों के युवाओं के लिए ट्रेनिंग देंगे, नदी पर निर्भर वर्गों के लिए विश्वस्तरीय संस्थान बनाए जाएंगे

सफाईकर्मियों के परिवार के युवाओं के प्रशिक्षण के लिए और रोजगार के लिए नए अवसर निकाले जाएंगे। अति पिछड़े समूहों और नदी पर निर्भर वर्गों, खासतौर से निषादों, मल्लाहों इन वर्गों के लिए मत्स्य पालन, नौका व्यवसाय, वॉटर स्पॉट से संबंधित व्यवसायों के लिए विश्वस्तरीय संस्थान बनाए जाएंगे। ये क्योंक्योंकि जब हम उनसे मिले, तो उन्होंने हमको बताया कि जैसे क्रूज शिप्स आ रहे हैं, नदियों में बहुत आधुनिक प्रकार से जो व्यापार हो रहे हैं, उनमें उनकी भागीदारी एकदम खत्म हो गई है, वो कर नहीं पा रहे हैं, तो हमने सोचा कि एक ऐसा संस्थान, जिसमें उनको पूरा प्रशिक्षण मिले, उनको इसकी ट्रेनिंग मिले कि किस तरह से वो खुद इन व्यापारों में शामिल हो पाएं, इसलिए हमने ये सोचा है। 



अति पिछड़े युवाओं को 5 लाख तक लोन एक फीसदी ब्याज पर देंगे

अति पिछड़े वर्गों को व्यवसाय शुरु करने के लिए 1 प्रतिशत की ब्याज पर 5 लाख रुपए तक का ऋण मिलेगा। इसके साथ-साथ ये कुछ अहम मुद्दे हैं, पूरा डीटेल तो आपको विधान में ही मिलेगा, इसके साथ-साथ जो नौजवानों की मानसिक भलाई है और शारीरिक खुशहाली है, उसके लिए हम कुछ करना चाहते हैं।



युवाओं में नशा रोकने के लिए एक ऐसा संस्थान बनाएंगे
प्रियंका गांधी ने कहा कि,''उत्तर प्रदेश में शायद आपको मालूम नहीं होगा, लेकिन नशीले पदार्थों का इस्तेमाल युवकों में बहुत ज्यादा बढ़ गया है, उसके समाधान के लिए, उनकी मदद के लिए हम एक ऐसा संस्थान बनाना चाहते हैं, जिसका सेंटर लखनऊ में होगा, जो पूरी तरह से काउंसलिंग, नशे की लत खत्म करने के लिए ये सारी काउंसलिंग का काम करेंगे और उनके 4 हब होंगे, अलग-अलग जगहों पर, जहाँ से काउंसलिंग के कैंप्स और ड्रग डीएडिक्शन के लिए नौजवानों को काउंसलिंग के लिए वहाँ पर कैंप्स लगाए जाएंगे। हम प्रदेश में एक बड़ा यूथ फेस्टिवल शुरु करना चाहते हैं, जिसमें प्रदेश के जो लोकल हुनर हैं, जो लोकल कल्चरल और ट्रेडीशनल, सांस्कृतिक चीजें हैं, इसमें युवाओं के पसंद की जो चीजें हैं, उन्हें हम शामिल करें, ये एक बहुत बड़ा फैस्टिवल होगा।



क्रिकेट के लिए विश्वस्तरीय एकेडमी बनाएंगे
प्रियंका गांधी ने कहा कि,''क्रिकेट के लिए एक विश्वस्तरीय एकेडमी खुलवाना चाहते हैं। खेलों में स्थानीय कौशल को बढ़ावा देने के लिए एक एकेडमी की स्थापना, लेकिन जो स्थानीय कौशल है, जैसे सोनभद्र में तीरंदाजी है, पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कुश्ती बहुत होती है, उस तरह से उन्हीं जोन्स में ऐसी एकेडमीज बनाना, जिनसे ये जो स्किल्स हैं, उनको बढ़ाया जा सके और जैसे हमने निषादों के लिए और नदी के आस पास रहने वाली कम्यूनिटीज के लिए हमने कहा है, उनके लिए भी, क्योंकि वो पहले से ही उनका एक बहुत हुनर होता है, तैरने में, डाइविंग में तो उनको क्यों न ओलंपिक लेवल तक डैवलप कराने के लिए एक एकेडमी बनाई जाए, जहाँ से वो उन्हीं स्पोर्टस में, जिनमें वो पहले से ही सक्षम हैं, उनको डैवलप करके वो ओलंपिक स्तर पर उनका कॉम्प्टीशन करके, या उनको कॉम्पटीटिव बनाया जाए।



प्रियंका गांधी ने कहा कि,''ये सब बातें हैं, इस भर्ती विधान' में और इसके अलावा हमारा प्रयास ये रहा है कि हम प्रचार के समय भी और आगे भविष्य में भी नकारात्मक बातों को करने के बजाय, प्रदेश के भविष्य के लिए उनके नौजवानों के भविष्य को बनाने के लिए सकारात्मक बातें रखें। हमने जो खाका तैयार किया है, ये एक कमिटमेंट है, जिसे हम पूरा करेंगे। अगर हमारी सरकार आएगी तो हम पूरा प्रयास करेंगे कि इसमें जो भी लिखा है, वो उत्तर प्रदेश के नौजवानों के लिए पूरा करें, ताकि आपके भविष्य की ठोस बात हो। आपको नकारा नहीं जाए। आज जो प्रचार चल रहा है, वो ज्यादातर नकारात्मक प्रचार है या फिर जाति पर आधारित सांप्रदायिक प्रचार है। हम चाहते हैं कि विकास पर बात हो, चुनाव में आपके भविष्य की बात हो और आपका भविष्य उज्जवल बने।




श्री सुरजेवाला ने कहा कि बहुत-बहुत शुक्रिया प्रियंका जी। एक नए रास्ते की शुरुआत उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी कर रही है, जो पूरे देश को रास्ता दिखाएगी।



एक प्रश्न पर कि उत्तर प्रदेश में पहले महिलाओं के लिए अलग घोषणा पत्र लाया गया, अब युवाओं के लिए घोषणा पत्र, उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की रणनीति क्या है? श्री गांधी ने कहा कि देखिए, नरेन्द्र मोदी जी ने हिंदुस्तान को जो विजन 2014 में दिया था, वो विजन फेल हो गया है। जो हिंदुस्तान की सबसे बड़ी स्टैंथ है - हमारे युवा, जिसको डेमोग्राफिक डिविडेंड कहते हैं, पूरी दुनिया में लोग कहते हैं कि देखिए हिंदुस्तान के पास डेमोग्राफिक डिविडेंड है, उसको नरेन्द्र मोदी जी, बीजेपी ने डेमोग्राफिक डिजास्टर में बदल दिया है। हिंदुस्तान को एक नए दृष्टिकोण की, एक नए विजन की जरुरत है। हिंदुस्तान को विजन कांग्रेस पार्टी ही दे सकती है। छोटी-छोटी पार्टियां नहीं दे सकती हैं और बीजेपी का जो विजन है, वो देश का विजन नहीं है। वो पूरे देश को दिख रहा है। अगर आप कहें कि हम आपको विजन देना चाहते हैं और फिर आपने 40 साल में सबसे ज्यादा बेरोजगारी पैदा कर दी, तो वो देश का विजन नहीं हो सकता है। तो हम इस बात को एक्सेप्ट करते हैं कि हिंदुस्तान को एक नए दृष्टिकोण, एक नए विजन की जरुरत है और शुरुआत उत्तर प्रदेश से होती है और अगर उत्तर प्रदेश को एक नया विजन नहीं दिया गया, तो हिंदुस्तान को एक नया विजन नहीं दिया जा सकता है। इसीलिए हमने पूरी कोशिश की है कि हम उत्तर प्रदेश के युवाओं को एक नया रास्ता, एक नई स्ट्रैटेजी दें। ये हमारा लक्ष्य है। धन्यवाद। 



एक अन्य प्रश्न पर कि आपने रिसर्च करके रोजगार के वायदों की बहुत बड़ी भरमार यहाँ रखी है, नीति आयोग की रिपोर्ट के अनुसार उत्तर प्रदेश गरीब राज्यों में तीसरे नंबर पर है, तो कैसे धन जुटाएंगे और कैसे आप लोग इस चीज को आगे लेकर जा पाएंगे? श्रीमती प्रियंका गांधी ने कहा कि देखिए, आपने कहा कि हमने बहुत रिसर्च किया है और जब हम 20 लाख नौकरियां कह रहे हैं, 20 लाख में से 12 लाख नौकरियों के लिए सरकार के पास पद हैं और पैसे भी हैं। उन्होंने वो पद खाली रखे हुए हैं। जो 8 लाख अन्य नौकरियां हैं, वो हम स्किल पर बेस्ड, एंटरप्रेन्योरल तरह से, हम किस तरह से बढ़ावा देकर वो रोजगार क्रियेट करेंगे, उसका भी पूरा रिसर्च है और उसमें हमने पूरी तरह से स्पैल आउट किया है। तो हम यहाँ कोई खोखला वायदा नहीं कर रहे हैं। इसके लिए सरकार के पास खूब पैसा है। सरकार की जब नीति सही होती है, तो जो सरकार के पास सुविधाएं हैं और सरकार के पास साधन हैं, वो सही चीज के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। आज उत्तर प्रदेश में असलियत ये है कि अगर आप विज्ञापन देखेंगे और आप देखेंगे कि योगी जी अपना विज्ञापन कितना करते हैं, चाहे दिल्ली में, चाहे उत्तर प्रदेश में, शायद उसकी जो बजट है, कुछ और चीजों से ज्यादा है, जिसमें हमारा ध्यान होना चाहिए। जैसे अगर हम सेहत को लें, हम शिक्षा को लें, इनमें क्यों कम किया गया है, बजट, क्योंकि आपका ध्यान कहीं और है और आप उस वजह से आपके पास सुविधाएं नहीं हैं। आप कहते हैं कि पैसा नहीं है, साधन नहीं है कंप्लीट करने का। एक्चुअली सच्चाई ये है कि आप करना नहीं चाहते हैं। तो हम कांग्रेस पार्टी में ये कह रहे हैं कि हम करना चाहते हैं, हमारी सरकार आएगी, तो सही चीजों पर फोकस होगा और जो सरकार के पास फंड है, जो सरकार के पास साधन हैं, वो पूरी तरह से रोजगार देने में, किसानों की मदद में, शिक्षा में, सेहत में लगाए जाएंगे।




एक अन्य प्रश्न पर कि उत्तर प्रदेश में चुनाव के बाद हंग असेम्बली आने की स्थिति में क्या आप महिलाओं और युवाओं से किए गए वायदों को पूरा करने के लिए अन्य विपक्षी पार्टियों से मिलकर सरकार बनाने का प्रयास करेंगी,  श्रीमती गांधी ने कहा कि आपने पूछा कि हम चुनाव के बाद अगर किसी अन्य पार्टियों को समर्थन देकर सरकार में शामिल होना चाहेंगे, तो मेरा जवाब ये है कि जब ऐसी परिस्थितियां आएंगी, तब ये तय किया जाएगा, लेकिन अगर ऐसी परिस्थिति आई भी और हम किसी सरकार, किसी गठबंधन की सरकार में शामिल हों या कुछ ऐसा हम सपोर्ट दें, तो हम चाहेंगे कि जो हमने एजेंडा महिलाओं के लिए और युवाओं के लिए यहाँ पर हमने जो आप सबको बताया है, जो हमारा एजेंडा है, वो हम पूरा कराएंगे। तो हम चाहेंगे कि वो एजेंडा पूरा हो और वो एक कंडीशन शायद होगी हमारी, खासतौर से महिलाओं वाली।



एक अन्य प्रश्न पर कि इस वक्त पर नौकरी पाना वाकई मुश्किल है, क्या आप लोगों ने पहले इसे किसी कांग्रेस शासित राज्य में लागू किया है, दूसरा, राहुल जी ने कहा कि यूपी एक नई दृष्टि देगी, तो क्या नया आयाम देने के लिए प्रियंका जी आप चुनाव लड़ेगी?  श्रीमती गांधी ने कहा कि अगर ये तय होगा और जब तय होगा तब आपको पता चल जाएगा। अभी तक हमने ये तय नहीं किया है। आपने जो कांग्रेस के प्रदेशों के बारे में जो मुद्दा उठाया, अगर आप कांग्रेस प्रदेश के रिकॉर्ड को देखें, तो वे रोजगार में उत्तर प्रदेश से कहीं बेहतर हैं और कांग्रेस के प्रदेशों में ये प्रयास किए गए हैं और कई ऐसी चीजें हैं, जो हमने भी अपने विधान में, चाहे वो भर्ती विधान हो, चाहे वो शक्ति विधान हो महिलाओं के लिए, कई ऐसी चीजें हैं, जिनकी प्रेरणा हमारे अपने प्रदेशों से आई हैं। तो हमने ये प्रयास किए हैं, इसलिए हम ठोस तरह से कह सकते हैं कि हम ये  उत्तर प्रदेश में लागू कर पाएंगे और इसके अलावा रोजगार के मामले में यूपीए की सरकारों का भाजपा की सरकारों से बेहतर रिकॉर्ड था, ये । तो जो हमारी पार्टी में अनुभव है, उसको ही लेकर हम आगे बढ़ रहे हैं और उन्हीं से प्रेरणा लेकर हमने ये विधान बनाया है।



इसी संदर्भ में श्री राहुल गांधी ने कहा कि'', रोजगार कहाँ से पैदा होता है, कैसे बनता है - दो एरिया होते हैं। एक होता है - सरकारी नौकरियां। दूसरा होता है - प्राइवेट सेक्टर। सरकारी नौकरियों के बारे में आप किसी भी कांग्रेस के स्टेट को देख लीजिए और जनरली आपको दिखेगा कि हम ज्यादा से ज्यादा नौकरियां दिलवाते हैं। दूसरी बात, जो प्राइवेट की बात हुई, रोजगार स्मॉल और मीडियम बिजनेस से आता है, रोजगार बड़े-बड़े बिजनेस से कम आता है। बीजेपी की स्ट्रैटेजी और आप ये किसी भी दुकानदार से पूछ लीजिए, किसी भी छोटे व्यापारी से पूछ लीजिए, बीजेपी की स्ट्रैटेजी छोटे व्यापारी को खत्म करने की है। डिमोनेटाइजेशन, गलत जीएसटी, कोरोना के समय उनके सब एक्शन, मजदूरों के साथ उन्होंने कोरोना में जो किया, इन सब एक्शन का लक्ष्य स्मॉल और मीडियम बिजनेस की रीढ़ की हड्डी को तोड़ने का रहा है और हिंदुस्तान को पांच- दस मोनोपोलिस्ट के हवाले कर देने का है। कांग्रेस पार्टी ये नहीं करती है। कांग्रेस पार्टी बैलेंस करके आगे बढ़ती है। हम छोटे व्यापारियों की, स्मॉल और मीडियम बिजनेस की रक्षा करते हैं, उनके लिए इंसेंटिव क्रियेट करते हैं और उनसे रोजगार पैदा करते हैं और जो लार्ज बिजनेस हैं, उनकी भी हम मदद करते हैं। अब मैं यूपी का आपको उदाहरण देना चाहता हूं, जो इनके मेनिफेस्टो में है - यहाँ पर अलग-अलग क्लस्टर हैं। 



आगरा, मिर्जापुर, मिर्जापुर में कालीन, मुरादाबाद में ब्रास वर्क, फिरोजाबाद में कांच, लखनऊ में आम, ये क्लस्टर हैं। ये उत्तर प्रदेश का धन है। आम को प्रोसेस करने के लिए बीजेपी की सरकार ने क्या किया - जीरो। ब्रास वेयर को डेवलप करने के लिए बीजेपी की सरकार ने क्या किया - जीरो। ये सब क्लस्टर को आप देख लीजिए, ये यूपी की शक्ति है। हम इन क्लस्टर को अनलॉक करना चाहते हैं। हम इन क्लस्टर में जो छोटे व्यापारी हैं, स्मॉल और मीडियम इंडस्ट्री हैं, उनकी मदद करना चाहते हैं और इन क्लस्टर के द्वारा हम यूपी को रोजगार दिलवाना चाहते हैं। बीजेपी ये काम कर नहीं सकती है, करना नहीं चाहती है। बीजेपी दो-तीन उद्योगपतियों को बड़े-बड़े कॉन्ट्रैक्ट पकड़ाना चाहती है, ये फर्क है। तो आपने कहा कि हमारे स्टेट से हमने कौन से उदाहरण लिए हैं - प्रियंका जी ने आपको समझाया कि हमने अलग-अलग उदाहरण, अलग-अलग स्टेट से लिए हैं। मगर मैं आपको कह रहा हूं कि अगर आपकी सेंट्रल स्ट्रैटेजी, आपकी नीयत ही गलत है, तो आप रोजगार पैदा ही नहीं कर सकते हैं और अगर आप आज देखें कि 14 करोड़ हिंदुस्तान के युवाओं ने रोजगार खोया है। इसका कारण डिमोनेटाइजेशन, गलत जीएसटी और कोरोना के समय जो सरकार ने एक्शन लिए हैं, वो हैं और कांग्रेस पार्टी इस तरीके का काम कभी नहीं कर सकती।




एक अन्य प्रश्न पर कि कांग्रेस का ये कमिटमेंट हमेशा से रहा है, तो ये आपका कमिटमेंट है या अपनी रिलेवेंस ढूंढने की कोशिश है? श्री राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी का आप रिकॉर्ड देखिए, किसी भी स्टेट में देखिए, नेशनल लेवल पर देखिए, जो यूपीए के समय इकोनॉमी की हालत थी, जो रोजगार की सिचुएशन थी, उसको आप कंपेयर कीजिए। एनडीए, बीजेपी की सरकार से आप कंपेयर कीजिए। जो कांग्रेस पार्टी ने उत्तर प्रदेश के लिए किया था, उसको आप स्टडी कीजिए। जब हम दिल्ली में थे, तब जो हमने उत्तर प्रदेश के लिए किया था, उसको आप स्टडी कीजिए। तो हम यूपी को एक रास्ता दिखा रहे हैं। यूपी से हम एक प्रकार से बातचीत, यूपी के युवाओं के साथ बातचीत करके, मिलकर एक विजन बना रहे हैं। ये हमारा कमिटमेंट भी है और इससे हमें रिलेवेंस भी मिलेगी और मिलती है।




जैसा भी परफॉर्म करेंगे, वो सशक्त होंगी इस कदम से और ये एक ऐसा कदम है, जो मेरे ख्याल से अंत में हर प्रदेश में अंत में मानना पड़ेगा कि 40 प्रतिशत कम से कम महिलाओं की भागीदारी होनी चाहिए, क्योंकि महिला 50 प्रतिशत है आबादी की। आप पूरी तरह से राजनीति में नकारी गई हैं, तो उसका हक है कि उसको नकारा ना जाए और उसको सशक्त करना हमारा कर्तव्य है, तो बिल्कुल कोई भय नहीं है।



एक अन्य प्रश्न पर कि आपने जिस तरह की तरजीह महिलाओं को उत्तर प्रदेश में दी है, वैसी किसी और राज्य में क्यों नहीं दी,  श्रीमती प्रियंका गांधी ने कहा कि मैं यूपी की प्रभारी हूँ। मैंने यहाँ पर एक पहल की है, ये एक ऐसा कदम है और एक बहुत बड़ा निर्णय है, छोटी बात नहीं है, इसके लिए बहुत बदलाव की जरुरत है। तो ये एक पहल है, देश के सबसे बड़े प्रदेश में, तो मैं समझती हूँ कि इन चीजों को, ऐसे परिवर्तन जो हैं, इनमें समय लगता है और समय आने पर बाकी प्रदेशों में भी होगा, जैसा मैंने कहा, लेकिन हमने यहाँ पर पहल करने की कोशिश की है, और मुझे लगता है कि काफी हद तक सफल प्रयास भी रहा है, क्योंकि अगर आप देखें, जबकि महिलाओं की कोई बात ही नहीं हो रही थी। सब जगह बड़ा फ्लैगशिप आपका जो प्रोग्राम था, महिलाओं के लिए भाजपा की सरकार का था कि एक गैस सिलेंडर दे दीजिए एक साल में महिलाओं को हमने निपट लिया है, अब ये कोई भी राजनीतिक दल नहीं कह सकता। अब आपने देखा है कि क्योंकि हमने ये पहल की, चाहे समाजवादी पार्टी हो, चाहे भाजपा हो, चाहे मोदी जी की सिर्फ महिलाओं वाली जो रैलियाँ हैं, ये सब पहली बार हो रही हैं, पहली बार घोषणा कर रहे हैं, महिलाओं के लिए। तो ये ऑलरेडी एक सफलता है और हमें पहचानना चाहिए कि एक बहुत बड़ा कदम है, सिर्फ राजनैतिक नहीं, सामाजिक कदम है और इस कदम को लेने के बाद मेरे ख्याल से महिलाओं को इस देश में नकारा नहीं जा सकता।



इसी संदर्भ में श्री राहुल गांधी ने कहा, जो प्रियंका ने बोला सही है। ये एक कॉन्सेप्ट है, इसको हम टैस्ट कर रहे हैं और नॉर्मली कांग्रेस पार्टी में हम ऊपर से अपने स्टेट्स को ऑर्डर नहीं देते हैं। अगर कोई आईडिया स्टेट से निकलकर आता है, तो हम उसको एक्सेप्ट करते हैं, पर जनरली हम ये कभी नहीं कहेंगे कि उत्तर प्रदेश में हमने ये किया है, तो सब स्टेट्स को करना पड़ेगा, ये हमारा तरीका नहीं है।



Video:

आप हमसे यहां भी जुड़ सकते हैं
TVL News

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें : https://www.facebook.com/TVLNews
चैनल सब्सक्राइब करें : https://www.youtube.com/TheViralLines
हमें ट्विटर पर फॉलो करें: https://twitter.com/theViralLines
ईमेल : thevirallines@gmail.com

You may like

स्टे कनेक्टेड