Ram Bahal Chaudhary,Basti
Share

प्रयागराज: प्रियंका गांधी ने मछुआरा समुदाय के लोगों से की बातचीत, निषादों -मछुआरों के साथ हुई बर्बरता और नाव तोड़े जाने पर बोली-प्रशासन और पुलिस को शर्म आनी चाहिए,आपको पीटा और आपकी नाव तोड़ी...

  • by: news desk
  • 21 February, 2021
 प्रयागराज: प्रियंका गांधी ने मछुआरा समुदाय के लोगों से की बातचीत, निषादों -मछुआरों के साथ हुई बर्बरता और नाव तोड़े जाने पर बोली-प्रशासन और पुलिस को शर्म आनी चाहिए,आपको पीटा और आपकी नाव तोड़ी...

प्रयागराज: कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी आज फिर प्रयागराज पहुंची है| कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रयागराज में मछुआरा समुदाय के लोगों से बात की। उनके साथ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी, प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, कांग्रेस विधायक अराधना , जिले के कांग्रेस कार्यक और भारी संख्या में ग्रामीण मौजूद हैं।



मछुआरा समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए प्रियंका गांधी ने कहा,''अगर आपको यहां मारा-पीटा गया है तो प्रशासन और यूपी पुलिस को शर्म आनी चाहिए। मैंने वीडियो देखा कि किस तरह आपको पीटा और आपकी नाव तोड़ी। इस मुद्दे को हम उठाएंगे और आपकी लड़ाई लडेंगे| प्रियंका गांधी ने कहा,''कृषि कानूनों से किसान का नुकसान हो रहा है और बड़े उद्योगपतियों का फायदा हो रहा है। इसी तरह से जो कानून नदियों पर लागू है वो आपकी भलाई के लिए नहीं है, वो कानून उद्योगपतियों की भलाई के लिए है




प्रियंका गांधी ने एक ट्वीट में लिखा, ‘निषादों की नदी में अब बंद होती जा रही है नाव की छपछप सेतु अब लोगों के बने खेवनहार घाटों पर खड़े स्टीमर तैयार कागज पर बालू है उनके हक में तल पर लेकिन किसी और का क़ब्जा है।’ ~गोविंद निषाद 

प्रयागराज में पुलिस उत्पीड़न के शिकार निषाद समाज की पीड़ा सुनी और साथ होने का भरोसा दिलाया।



Image



बसवार गांव पहुंची कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी को मछुआरा समाज की महिलाओं ने रो-रोकर अपनी दास्तां बताई। कहा कि पुलिस ने घर में घुसकर औरतों और बच्चों को भी बेरहमी से पीटा। घर में तोड़फोड़ की और आग लगा दी। पुलिसिया उत्पीड़न के शिकार हुए घूरपुर के बसवार गांव के मछुआरों का दर्द प्रियंका गांधी सुन रही हैं। प्रियंका गांधी पीड़ित मछुआरों के घर पहुंचकर उनका हालचाल जान रही हैं और प्रशासन के द्वारा की गई ज्यादती के बारे में लोगों से पूछा तो महिलाएं फफक पड़ीं। मछुआरों ने पुलिस के द्वारा तोड़े गए उनके नावों को भी कांग्रेस महासचिव को दिखाया।  गांव में सुरक्षा व्यवस्था का व्यापक बंदोबस्त किया गया है। दो दिन पहले से ही प्रियंका की सुरक्षा में जु़ड़े अधिकारियों ने गांव का दौरा किया था



प्रियंका गांधी मछुआरों के साथ बैठकर उनकी पीड़ा सुनी। परिजनों ने बताया कि पुलिस ने घर में घुसकर पुरुषों ही नहीं बल्कि महिलाओं की बर्बरतापूर्वक पिटाई की। घरों में तोड़फोड़ किया गया और आग लगा दी गई। नावों को तोड़ दिया गया है। इससे उनकी जीविका पर संकट आ गया है।





Image





कांग्रेस ने ट्वीट किया,''कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी प्रयागराज के बाँसवार गाँव में भाजपाई हुकूमत की निरंकुशता का शिकार हुए निषाद समुदाय का दर्द बांटने और उनकी आवाज उठाने पहुंची। कांग्रेस पार्टी हर दमन के विरोध में हरदम खड़ी नजर आएगी। 




पंखुड़ी पाठक ने ट्वीट किया था,,''11 फरवरी को मौनी अमावस्या के दिन प्रियंका गांधी संगम स्नान के लिए प्रयागराज पहुची थीं जहां नाविक सुजीत निषाद ने उन्हें बसवार गांव के निषादों और मछुआरों की पुलिस द्वारा नाव भी तोड़ दिए जाने की जानकारी देकर प्रियंका गांधी को बसवार आने का निमंत्रण भी दिया था|



यूपी कांग्रेस ने ट्वीट किया,''जिस प्रशासन ने नांव तोड़ी अब प्रियंका गांधी जी के दौरे से पहले वही प्रशासन नावें ठीक करा रहा। सवाल वही है किसके कहने पर नावें तोड़ी गयी और क्यों?...



दरअसल, 14 फरवरी को अवैध खनन के खिलाफ कार्रवाई करते हुए प्रशासन ने बसवार गांव में नाविकों की कई नावें तोड़ दी थीं| आरोप है कि इस दौरान महिलाओं पर लाठीचार्ज भी किया गया| इसी मामले में पुलिस ने नाविकों द्वारा विरोध करने पर दर्जनों लोगों के खिलाफ मामला भी दर्ज किया था| इस घटना के बाद से क्षेत्र में बालू खनन पूरी तरह से बंद पड़ा है| इसको लेकर ग्रामीणों में रोष है| ग्रमीणों का कहना है कि प्रशासन खनन माफिया के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाय निषाद समाज पर जुल्म ढा रहा है जो खनन के काम में मजदूर की हैसियत से काम करता है| 



बता दें कि बीते 11 फरवरी को मौनी अमावस्या के दिन प्रियंका गांधी संगम स्नान के लिए प्रयागराज पहुची थीं| जहां अरैल घाट से संगम तक प्रियंका गांधी ने सुजीत निषाद नाम के नाविक की नाव से संगम पर पहुंचकर संगम स्नान किया था|



इस दौरान प्रियंका ने नाविक सुजीत से जब बात कर उसके घर परिवार और रोजी-रोटी के बारे में पूछा तो सुजीत ने खुद की 3 बेटियां होने के साथ एक भाड़े की नाव चलाने के चलते परिवार का सही से भरण-पोषण न कर पाने की बात बताई थी| इसके साथ उसने बसवार गांव के निषादों और मछुआरों की पुलिस द्वारा नाव भी तोड़ दिए जाने की जानकारी देकर प्रियंका गांधी को बसवार आने का निमंत्रण भी दिया था|




इस दौरान नाविक सुजीत निषाद बताते हैं कि मौनी अमावस्या के दिन प्रियंका दीदी मेरे नाव पर संगम स्नान करने के लिए आई थीं| संगम स्नान के बाद उन्होंने मेरी नाव को भी चलाया था|  बसवार में नाव को तोड़ देने की घटना हो गई थी| जिसे मैंने प्रियंका दीदी से बोला था| इसलिए प्रियंका दीदी फिर से प्रयागराज में नावों को देखने और यहां के सभी लोगों की मदद करने के लिए आ रही हैं|









आप हमसे यहां भी जुड़ सकते हैं
TheViralLines News

ईमेल : thevirallines@gmail.com
हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें : https://www.facebook.com/TVLNews
हमें ट्विटर पर फॉलो करें: : https://twitter.com/theViralLines
चैनल सब्सक्राइब करें : https://www.youtube.com/TheViralLines
Loading...

You may like

स्टे कनेक्टेड

आपके लिए