Ram Bahal Chaudhary,Basti
Share

कबीर तिवारी हत्याकांड:कबीर की बहन अखिलेश यादव से मिलकर सौंपा ज्ञापन और न्याय दिलाने की माँग,कहा-BJP सांसद हम लोगों को बरगला रहे हैं..

  • by: news desk
  • 04 January, 2020
कबीर तिवारी हत्याकांड:कबीर की बहन अखिलेश यादव से मिलकर सौंपा ज्ञापन और न्याय दिलाने की माँग,कहा-BJP सांसद हम लोगों को बरगला रहे हैं..

लखनऊ: यूपी के बस्ती जिले में बहुचर्चित भारतीय जनता पार्टी के नेता और पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कबीर तिवारी हत्याकांड पर पीड़ित बहन ने कहा कि साजिश कर्ता को पुलिस और शासन आज तक गिरफ्तार नही कर पाई है| कबीर तिवारी की बहन आज लखनऊ में समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव से मिलकर उन्हे ज्ञापन सौंपा और न्याय दिलाने की माँग की है| 

 


इस दौरान कबीर की बहन रंजना तिवारी ने यह भी कहा कि स्थानीय प्रशासन मामले की लीपापोती में लगा है और असली साजिशकर्ता को बचाने की कोशिश की जा रही है। कबीर की बहन ने बीजेपी सांसद हरीश द्विवेदी पर आरोप लगाया है, हम लोगों को बरगला रहे हैं| आज तक SIT जांच भी शुरू नही हो पाई है|  मुख्य साजिश कर्ता भी गिरफ्तार नही हुआ है| 




 रंजना ने कहा कि जब स्थानीय प्रशासन ने दो लोगों को गिरफ्तार करके मामले को वहीं खत्म करने की कोशिश की तो हम असली साजिशकर्ता की गिरफ्तारी की मांग के साथ आमरण अनशन पर बैठ गए। उन्होंने कहा, 'हम मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग कर रहे थे। स्थानीय सांसद हरीश द्विवेदी और बस्ती के जिलाधिकारी ने इस बात का भरोसा दिलाते हुए अनशन खत्म कराया कि योगी सरकार मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित करेगी। लेकिन बाद में योगी सरकार ने धोखा करते हुए मामले की जांच सीबीसीआईडी को सौंपने की सिफारिश कर दी।' उन्होंने कहा कि मानवाधिकारों के लिए काम करने वाले सामाजिक कार्यकर्ता प्रसून शुक्ला तथा अन्य लोगों के सामने प्रशासन द्वारा भरोसा दिलाए जाने के बाद जब सरकार ने हमें धोखा दिया तो हम विपक्ष के पास पहुंचे ताकि वह हमारी बात उठा सकें।





गौरतलब है कि  9 अक्टूबर 2019 बुधवार को पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कबीर तिवारी को दिनदहाड़े बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी| हत्या के विरोध में कबीर के समर्थक उग्र हो गए और शहर में कई जगह जमकर तोड़फोड़ की घटना सामने आई थी| इस मामले में पुलिस ने अब तक दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है, इसके अलावा पीड़ित परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने 8 नामजद और दो अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है|





कबीर तिवारी के परिजन और उनके समथर्क नामजद आभियुक्तो की गिरफ्तारी न होने से बैठे थे आमरण अनशन पर। 23 नवंबर, 2019 को कबीर तिवारी के परिजनों ने कहा कि SIT जांच की सूचना को सांसद हरीश द्विवेदी ने बताया।सांसद हरीश द्विवेदी के सूचना को विश्वसनीय बनाते हुए आमरण अनशन समाप्त कर रहे।




डीएम आशुतोष निरंजन ने 23 नवंबर,को जानकरी देते हुए बताया कि, कबीर तिवारी हत्याकांड की जांच जिला पुलिस कर रही थी जिससे काफी लोग ऐसे थे जो विवेचना की प्रगति से संतुष्ट नहीं थे| उनके द्वारा मांग की जा रही थी निरंतर की किसी अन्य उच्च स्तरीय जांच एजेंसी से जांच हो| मांग को विभिन्न माध्यमों द्वारा सरकार तक पहुंचाया गया| आज प्रमुख सचिव गृह द्वारा फोन पर बताया गया कि इसके लिए SIT जांच का गठन किया गया है...







Video:

आप हमसे यहां भी जुड़ सकते हैं
TheViralLines News

ईमेल : thevirallines@gmail.com
हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें : https://www.facebook.com/TVLNews
हमें ट्विटर पर फॉलो करें: : https://twitter.com/theViralLines
चैनल सब्सक्राइब करें : https://www.youtube.com/TheViralLines
Loading...

You may like

स्टे कनेक्टेड

आपके लिए

आम मुद्दे और पढ़ें

Please LIKE TVL News Page. Thank you