Ram Bahal Chaudhary
Ram Bahal Chaudhary,Basti
Share

उत्तर प्रदेश में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त: 1370 गांव बाढ़ से प्रभावित, CM ने बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में NDRF, SDRF तथा PAC की टीमें तैनात करने के दिए निर्देश

  • by: news desk
  • 11 October, 2022
उत्तर प्रदेश में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त: 1370 गांव बाढ़ से प्रभावित, CM ने बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में NDRF, SDRF तथा PAC की टीमें तैनात करने के दिए निर्देश

लखनऊ:   उत्तर प्रदेश में लगातार हो रही भारी बारिश लोगों के लिए आफत बन गई हैं| एक ओर जहां शहरों- गांवों में लोग जलभराव से जूझ रहे हैं तो वहीं तो गांवों में किसान फसलों की बर्बादी से परेशान हैं| धान और आलू की फसलों को बारिश ने काफी नुकसान पहुंचाया है| प्रदेश में बारिश, आकाशीय बिजली, सर्पदंश और पानी में डूबने से मौतों की खबर है|



मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में अतिवृष्टि, आकाशीय विद्युत, सर्पदंश तथा डूबने से हुई जनहानि पर गहरा शोक व्यक्त किया।दिवंगत व्यक्तियों के परिजनों को अनुमन्य राहत राशि तत्काल वितरित किए जाने के निर्देश दिए हैं|



मुख्यमंत्री ने शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है। मुख्यमंत्री ने विभिन्न प्राकृतिक आपदाओं में घायलों का समुचित उपचार कराने के निर्देश दिए हैं।



बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में राहत एवं बचाव कार्य हेतु आवश्यकतानुसार NDRF, SDRF तथा PAC की टीमें तैनात करने के निर्देश दिए गए हैं। प्रदेश के 18 जनपदों के 1370 गांव बाढ़ से प्रभावित हैं|



गोरखपुर:  भारी बारिश के कारण राप्ती नदी का जलस्तर बढ़ा।


लखीमपुर खीरी: लखीमपुर खीरी शहर के कई हिस्सों में भारी बारिश के कारण बाढ़ जैसी स्थिति बन गई है।



मथुरा: लगातार बारिश के कारण जलभराव से मथुरा के कई हिस्सों में कृषि क्षेत्रों में फसलों को नुकसान पहुंचा है | एक स्थानीय किसान का कहना है, "हमारी 100% फसलें नष्ट हो गई हैं, हम डीएम के कार्यालय में मुआवजे की मांग करने आए हैं।"



एक अन्य किसान का कहना है, "कोई सर्वेक्षण नहीं हुआ, प्रशासन ने कोई कार्रवाई नहीं की"



मथुरा डीएम कार्यालय में पहुंचे एक स्थानीय किसान प्यारेलाल ने कहा,''हम चाहते हैं कि सरकार मुआवजे का भुगतान करे और चाहते हैं कि मथुरा के डीएम हमारी फसलों को हुए नुकसान का आकलन करने के लिए फील्ड स्टाफ भेजें|




अम्बेडकर नगर (उत्तर प्रदेश): लगातार हो रही भारी बारिश से घाघरा नदी में जलस्तर बढ़ने से मांझा कमहरिया क्षेत्र में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं| फसलों को नुकसान पहुंचा है| लगातार बारिश से आम जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है|  तेज बारिश व हवा से धान व गन्ने की फसल खेतों में धराशायी हो गई। शुरुआत में सूखे जैसे हालात थे तो अब लगातार हो रही बारिश से किसान मुश्किल में पड़ गए हैं।



अलीगढ़:  अलीगढ़ में अतिवृष्टि से आलू और धान की फसल खराब होने से किसान परेशान हैं। एक किसान ने बताया, "हमने धान लगा रखे थे, फसल को तैयार करने में काफी खर्च आया था। अब ज्यादा बारिश होने से तैयार फसल खराब हो गई है। अब अगली फसल होने की भी उम्मीद नहीं है।" 



किसान ने कहा,''हमने बहुत पैसा लगाया लेकिन भारी बारिश के कारण सभी फसलें नष्ट हो गई हैं। आलू की सारी फसल भी नष्ट हो गई। सरकार से हमारी मदद करने का अनुरोध करेंगे|





आप हमसे यहां भी जुड़ सकते हैं
TVL News

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें : https://www.facebook.com/TVLNews
चैनल सब्सक्राइब करें : https://www.youtube.com/TheViralLines
हमें ट्विटर पर फॉलो करें: https://twitter.com/theViralLines
ईमेल : thevirallines@gmail.com

You may like

स्टे कनेक्टेड