Ram Bahal Chaudhary,Basti
Share

कानपुर में अपहरण के बाद एक और हत्या: 12 दिन बाद अपहृत युवक का शव कुएं में मिला, मांगी गई थी 20 लाख की फिरौती

  • by: news desk
  • 28 July, 2020
कानपुर में अपहरण के बाद एक और हत्या: 12 दिन बाद अपहृत युवक का शव कुएं में मिला, मांगी गई थी 20 लाख की फिरौती

कानपुर: यूपी के कानपुर में अपहरण के बाद हत्या का एक और मामला सामने आया है। 12 दिन से लापता धर्मकांटा कर्मी का शव आज एक कुएं से बरामद किया गया। अपहरणकर्ता युवक को छोड़ने के बदले बीस लाख की फिरौती मांगी थी। कानपुर में संजीत यादव हत्याकांड के बाद यह दूसरा बड़ा अपहरण और हत्या का मामला है। 



SP कानपुर देहात अनुराग वत्स ने कहा कि,"बृजेश अपहरण और हत्या मामले में पुलिस ने एक कुएं से शव बरामद किया। थाना भोगनीपुर क्षेत्र में 17 तारीख को एक तहरीर प्राप्त हुई जिसमें बताया गया कि बृजेश नाम का एक 25 वर्षीय लड़का, जो धर्मकाटे पर काम करता था, उसका धर्मकाटे से अपहरण हुआ है|



अनुराग वत्स ने कहा कि,''पुलिस ने तत्काल टीम गठित करते हुए इसपर काम शुरू किया। अभी तक कुछ महत्वपूर्ण सुराग पुलिस को मिले हैं। जल्द ही पुलिस को इस मामले में सफलता मिलेगी, जो भी इस घटना के पीछे बात है उसे पुलिस सामने लेकर आएगी|




SP कानपुर देहात अनुराग वत्स ने कहा कि,''जांच में पता चला है कि बृजेश के दोस्त सुबोध सचान ने घटना को अंजाम दिया है। बृजेश की कोल्ड ड्रिंक में नींद की दवाई मिलाकर, रस्सी से उसकी हत्या की गई। जिसके बाद शव को गाड़ी में ले जाकर कुएं में फेंक दिया। बृजेश के घरवालों से हत्या के बाद फिरौती मांगी गई|




बृजेश पाल कानपुर-झांसी राजमार्ग पर स्थित नेशनल धर्मकांटा में मैनेजर थे। 15-16 जुलाई की रात वह धर्मकांटा से संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गए थे। बृजेश पाल के ही मोबाइल नंबर से अपहर्ताओं ने फोन कर पांच दिन का समय देकर 20 लाख रुपये की फिरौती का इंतजाम करने के लिए कहा। इसके बाद बृजेश पाल का फोन हो गया बंद था।




बता दें कि,''कानपुर के बर्रा से 22 जून को लैब टेक्नीशियन संजीत यादव का अपहरण बाद हत्या कर दिया गया था| 26 जून को उसकी हत्या कर लाश पांडु नदी में फेंक दी थी| पुलिस ने मामले में कुलदीप, रामबाबू समेत पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया है| फिलहाल,''संजीत यादव का शव पांडू नदी से अब तक बरामद नहीं हो पाया है।




संजीत यादव के परिवार वालों ने सीबीआई जाँच की माँग की है| उन्होने कहा है हम यूपी पुलिस की जांच से संतुष्ट नहीं हैं| 25 जुलाई को संजीत यादव की बहन रूचि यादव ने कहा था,''मैं चाहती हूं कि मेरे भाई की मौत की जांच सीबीआई करे। लेकिन पहले, हम उसका शरीर चाहते हैं। हम यूपी पुलिस की जांच से संतुष्ट नहीं हैं| रूचि यादव ने कहा,'संजीत का अपहरण कर लिया गया था, बाद में उनकी हत्या कर दी गई थी और उसका शरीर 26-27 जून को अपहरणकर्ताओं द्वारा पांडु नदी में फेंक दिया गया था|








आप हमसे यहां भी जुड़ सकते हैं
TheViralLines News

ईमेल : thevirallines@gmail.com
हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें : https://www.facebook.com/TVLNews
हमें ट्विटर पर फॉलो करें: : https://twitter.com/theViralLines
चैनल सब्सक्राइब करें : https://www.youtube.com/TheViralLines
Loading...

You may like

स्टे कनेक्टेड

आपके लिए

आम मुद्दे और पढ़ें