Ram Bahal Chaudhary
Ram Bahal Chaudhary,Basti
Share

खाली बैठकर क्या करंगे...हमारा काम ही चुनाव लड़ना है: 2024 में कन्नौज से चुनाव लड़ने के सवाल पर अखिलेश का जवाब

  • by: news desk
  • 24 November, 2022
खाली बैठकर क्या करंगे...हमारा काम ही चुनाव लड़ना है: 2024 में कन्नौज से चुनाव लड़ने के सवाल पर अखिलेश का जवाब

कन्नौज: कन्नौज पहुंचे समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा है कि, ”वह कन्नौज से चुनाव लड़ेंगे| उन्होंने कहा, ” 2024 में भी है चुनाव... हम खाली बैठकर क्या करंगे? हमारा काम ही चुनाव लड़ना है।” अखिलेश यादव आज गुरुवार को सपा नेता व नगर पालिका के पूर्व चेयरमैन सुनील गुप्त के बेटे यश चन्द्र गुप्त के तिलक समारोह में पहुंचे थे। 


2024 में कन्नौज से चुनाव लड़ने पर सवाल पूछा गया तो अखिलेश यादव ने कहा, ”हमारा काम चुनाव लड़ना है। जहां पहला चुनाव लड़े थे वहां फिर चुनाव लड़ेंगे। कन्नौज की सीट खाली है तो हम क्या करेंगे|


अखिलेश ने कहा, ” हम खाली बैठकर क्या करंगे? हमारा काम ही चुनाव लड़ना है| चुनाव लड़ेंगे यहां पर, जहां पहला चुनाव लड़े हैं| वहीं से चुनाव लड़ेंगे|”


मैनपुरी में बुधवार को अखिलेश यादव ने पूर्व सैनिकों को सम्बोधित करते हुए कहा था कि संविधान की धज्जियां उड़ा रही है। उन्होंने ‘अग्निवीर योजना‘ की आलोचना करते हुए कहा कि जो देश की सेवा करना चाहता है वो कभी अग्निवीर नहीं बनना चाहेगा। फर्रुखाबाद में सेना भर्ती का आयोजन हुआ लेकिन नौकरी किसी को नहीं मिली। सरकार कह रही है कि इन योजनाओं से बजट बचा रही है, लेकिन जब देश ही नहीं बचेगा तो बजट कैसे बचेगा। मैनपुरी की जनता ने नेताजी को बहुत सम्मान दिया है।


 यादव ने भूतपूर्व सैनिकों से कहा कि अगर आप लोग अपने बूथ को मजबूत कर देंगे, तो इस चुनाव में हमारी सबसे बड़ी जीत होगी। आपके लोग हर जगह हैं। भूतपूर्व सैनिकों की बात पर जनता भरोसा करती है। सबसे ज्यादा रिटायर्ड फौजी मैनपुरी, एटा, इटावा में है। उन्होंने कहा कि भाजपा साजिश कर सकती है। समाजवादी पार्टी पूरी मेहनत कर रही है। पूर्व सैनिक भी साथ दे देंगे तो हमें जीतने से कोई रोक नहीं सकता।


अखिलेश यादव ने नेताजी को याद करते हुए कहा कि उन्होंने कभी किसी फैसले का मन बनाया तो उन्हें कोई रोक नहीं पाया। नेताजी जब रक्षा मंत्री थे तो सियाचिन में गए, बताया गया कि वहां बहुत ठंड होती है, आप धोती कुर्ते में नहीं जा सकते, लेकिन किसी की परवाह किए बिना वे धोती कुर्ते में ही गए। नेताजी रूस भी धोती कुर्ते में गए थे। रूस के राष्ट्रपति ने भी प्रोटोकॉल तोड़ कर नेताजी का स्वागत किया था। नेताजी ने कभी अपनी जमीन नहीं छोड़ी।


यादव ने कहा कि नेताजी के कारण ही आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे जल्दी बन पाया। 26 नवंबर, 2016 को सुखोई और मिराज उतारकर उद्घाटन किया गया। हमने समाजवादी सरकार में एक्सप्रेस-वे के दोनों ओर किसानों की सुविधा के लिए मंडियां स्थापित की थी। भाजपा ने उसे बर्बाद कर दिया।

 

 इस अवसर पर सुप्रसिद्ध कवि एवं पूर्व सांसद उदय प्रताप सिंह ने कहा कि नेताजी ने ही शहीद जवानों का पार्थिव शरीर उनके घर तक पहुंचाने की व्यवस्था कर सम्मान दिलाया। पहले तो सिर्फ टोपी और बेल्ट भेजी जाती थी। नेताजी किसानों के नेता थे और वे कहते थे कि किसान का बेटा ही फौज में जाता है। जब वे रक्षामंत्री थे तो तब हमारी सेना ने चीन को खदेड़ने का काम किया था। नेताजी ने हमेशा जवानों का मनोबल बढ़ाने का काम किया। श्री उदय प्रताप सिंह जी ने इस अवसर पर देश और नेताजी के विचारों पर कविताएं भी सुनाई।


अखिलेश यादव की पृष्ठभूमि स्वयं सेना की रही है। वे धौलपुर के सैनिक स्कूल के छात्र रहे हैं। सैनिक परिवार से उनका निकट सम्बंध रहा है। श्री यादव ने समाजवादी पार्टी संगठन में भी ‘समाजवादी सैनिक प्रकोष्ठ‘ बनाया था जिसमें बड़ी संख्या में पूर्व सैनिक संगठन से जुड़े है। समाजवादी सरकार में सैनिक स्कूलों की स्थापना भी हुई थी।




आप हमसे यहां भी जुड़ सकते हैं
TVL News

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें : https://www.facebook.com/TVLNews
चैनल सब्सक्राइब करें : https://www.youtube.com/TheViralLines
हमें ट्विटर पर फॉलो करें: https://twitter.com/theViralLines
ईमेल : thevirallines@gmail.com

You may like

स्टे कनेक्टेड