Ram Bahal Chaudhary,Basti
Share

बिहार में मुर्दे ने लड़ा पंचायत चुनाव, भारी मतों से जीतकर बना पंच

  • by: news desk
  • 28 November, 2021
बिहार में मुर्दे ने लड़ा पंचायत चुनाव, भारी मतों से जीतकर बना पंच

बिहार में पंचायत चुनाव में मुर्दे भी निर्वाचित हो गए। यह कारनामा आठवें चरण के चुनाव में जमुई जिले के खैरा प्रखंड में हुआ है।  जमुई ज़िले के खैरा प्रखंड अंतर्गत हरखार पंचायत के वार्ड संख्या दो में एक मृतक ने पंचायत चुनाव जीता।  यहां पंच के उम्मीदवार की मौत के बाद मतदान हुआ। मतदाताओं ने मृतक (सोहन मुर्मू) पर ही जताया भरोसा। सर्वाधिक मत देकर उन्‍हें विजयी बना दिया। इस चुनाव परिणाम की चर्चा हर ओर हो रही है।



 चुनाव बुधवार को हुए थे। इस अजीबोगरीब मामले का खुलासा तब हुआ जब अधिकारी 24 नवंबर को हुए चुनाव में विजय हासिल करने वाले उम्मीदवारों को सर्टिफिकेट सौंप रहे थे। 



सोहन मुर्मू ने अपने प्रतिद्वंद्वी को 22 मतों से पराजित किया। मुर्मू के परिजनों ने कहा कि वो काफी बीमार थे और चुनाव जीतना उनकी अंतिम इच्छा थी, इसलिए वे चुप रहे। गांव के किसी व्यक्ति ने भी हमें इसकी जानकारी नहीं दी। ऐसा लगता है कि उन सभी ने मुर्मू की अंतिम इच्छा पूरी करने के लिए उन्हें वोट दिया।'



पंचायत चुनाव के आठवें चरण में जमुई जिले के खैरा प्रखंड के 22 पंचायत में मतदान 24 नवंबर को संपन्न हुआ था| मतगणना 26 नवंबर को हुआ| लेकिन मतगणना के बाद लोगों को हैरान और आश्चर्य कर देने वाला परिणाम देखने को मिला| जिस शख्स की मौत हो चुकी है, उसकी जीत हो गई| खैरा के प्रखंड विकास पदाधिकारी राघवेंद्र त्रिपाठी ने कहा, "नियमानुसार राज्य निर्वाचन आयोग को इसकी सूचना दी जाएगी।"




जानकारी के अनुसार हरखार पंचायत के वार्ड संख्या-2 से पंच के उम्मीदवार के रूप में दो प्रत्याशी चुनावी मैदान में थे| एक सोहन मुर्मू और दूसरा मुरा हेंब्रम| सोहन मुर्मू की बीमारी से मौत हो गई| कहा जाता है कि ग्रामीणों ने इसकी मौखिक सूचना प्रखंड विकास पदाधिकारी को भी दी गई। इसके बाद 24 नवंबर को वहां मतदान हुआ।  



लिहाजा पंचायत चुनाव में बैलेट पेपर में सोहन मुर्मू का नाम और चुनाव चिन्ह छपा रह गया| मतदाताओं ने सोहन मुर्मू को जमकर वोट भी किया। परिणाम आने पर मृतक सोहन मुर्मू को जीत भी मिल गई|



गांव के चंद्रिका रविदास ने बताया कि सोहन मुर्मू की मौत नवंबर के पहले सप्ताह में ही हो गई थी और मतदान 24 नवंबर को हुआ| मृतक अपना चुनाव चिन्ह भी नहीं ले सका था और प्रचार भी नहीं किया था, लेकिन वह चुनाव जीत गया|






आप हमसे यहां भी जुड़ सकते हैं
TVL News

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें : https://www.facebook.com/TVLNews
चैनल सब्सक्राइब करें : https://www.youtube.com/TheViralLines
हमें ट्विटर पर फॉलो करें: https://twitter.com/theViralLines
ईमेल : thevirallines@gmail.com

You may like

स्टे कनेक्टेड