Ram Bahal Chaudhary,Basti
Share

ब्रिटिश सांसद को भारत में प्रवेश से रोके जाने पर बोले शशि थरूर- हमें एक संकीर्ण दिमाग और असहिष्णु वाला देश समझा जाएगा

  • by: news desk
  • 17 February, 2020
ब्रिटिश सांसद को भारत में प्रवेश से रोके जाने पर बोले शशि थरूर- हमें एक संकीर्ण दिमाग और असहिष्णु वाला देश समझा जाएगा

नई दिल्ली: ब्रिटिश सांसद डेबी अब्राहम को भारत में प्रवेश से रोके जाने पर कांग्रेस नेता शशि थरूर ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया है| उन्होने कहा,ऐसे लोगों को प्रवेश न देने से हमें एक संकीर्ण दिमाग और असहिष्णु वाला देश समझा जाएगा, जो हमारे देश के लिए सही नहीं है|




शशि थरूर ने कहा, ब्रिटिश सांसद की तरफ से कहा जा रहा है कि उनके पास एक मान्य वीज़ा था फिर भी उनको भारत में प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई। उनका मानना है कि कश्मीर पर उनके विचारों के कारण ऐसा हुआ है।




शशि थरूर ने कहा, मुझे लगता है यह दुर्भाग्यपूर्ण है। ऐसे लोगों को भारत में प्रवेश न देने से हमें एक संकीर्ण दिमाग और असहिष्णु वाला देश समझा जाएगा, जो हमारे देश के लिए सही नहीं है, हमारे देश में विविधता है। हमारे पास बाहर से आने वाले लोगों के नकारात्मक दृष्टिकोण को सहन करने की क्षमता है




बता दें कि, जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद दुनिया के कई देशों ने इस फैसले पर सवाल खड़े किए हैं| भारत के बुलावे पर यूरोपियन यूनियन के कुछ सांसदों ने जम्मू-कश्मीर का दौरा भी किया, लेकिन सोमवार को ब्रिटेन की लेबर पार्टी की सांसद डेबी अब्राहम को भारत आने से रोकने का फैसला करते हुए दिल्ली एयरपोर्ट से ही वापस भेज दिया गया|




एयरपोर्ट से ही वापस भेजे जाने के मसले पर ब्रिटिश सांसद ने सरकार के फैसले पर सवाल उठाए हैं| इस बीच इस प्रकरण पर ब्रिटिश हाई कमीशन के प्रवक्ता ने कहा कि हम यह समझने के लिए भारतीय अधिकारियों के संपर्क में बने हुए हैं कि सांसद डेबी अब्राहम को भारत में प्रवेश से क्यों मना किया गया| नई दिल्ली एयरपोर्ट पर रहने के दौरान हमने उन्हें कांसुलर की सुविधा प्रदान की थी|




जम्‍मू-कश्‍मीर के विशेष राज्‍य का दर्जा खत्‍म करने की आलोचना करने वालीं ब्रिटिश सांसद डेबी अब्राहम को भारत आने की मंजूरी नहीं दी गई|उन्होंने बताया, 'मेरा ई-वीजा रिजेक्‍ट कर दिया गया है.' ब्रिटिश संसद की सदस्य और कश्मीर के लिए ऑल पार्टी पार्लियामेंट्री ग्रुप की अध्यक्ष डेबी अब्राहम ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट के जरिए यह जानकारी दी| उन्होंने बताया कि उनके साथ एक अपराधी की तरह सलूक किया गया और उन्हें निर्वासित सेल में ले जाया गया|




डेबी अब्राहम्स ने अपनी पोस्ट के जरिए बताया कि आज (सोमवार) सुबह करीब 9 बजे दिल्ली एयरपोर्ट पहुंची थीं| एयरपोर्ट पर उनसे कहा गया कि पिछले साल अक्टूबर में जारी किया गया उनका ई-वीजा जो अक्टूबर 2020 तक मान्य था, रद्द कर दिया गया है| उन्होंने कहा, 'बाकी सभी लोगों के साथ मैंने भी इमिग्रेशन डेस्क पर अपने सभी दस्तावेजों को दिखाया था. उसमें मेरा ई-वीजा भी था| मेरी तस्वीर ली गई और फिर अधिकारियों ने स्क्रीन की ओर देखकर अपना सिर हिलाया| फिर उसके बाद उन्होंने मुझसे कहा कि मेरा वीजा रद्द कर दिया गया है| उन लोगों ने मेरा पासपोर्ट ले लिया और करीब 10 मिनट के लिए वह लोग वहां से गायब हो गए|जब वह वापस लौटे तो बेहद गुस्से में थे और मुझसे चिल्लाते हुए बोले कि मेरे साथ आओ|




उन्होंने आगे कहा, 'मैंने उनसे कहा कि मुझसे इस तरह से बात मत करो और फिर वह मुझे डिपोर्टी सेल की ओर ले गए| फिर उन्होंने मुझे बैठने के लिए कहा लेकिन मैंने मना कर दिया| मुझे नहीं पता था कि वह क्या कर रहे हैं या वह मुझे कहां ले जाएंगे, इसलिए मैं चाहती थी कि लोग मुझे देखें.' डेबी अब्राहम्स ने आगे बताया कि उन्होंने एक रिश्तेदार को फोन किया और इस बारे में बताया| उसने ब्रिटिश हाई कमिश्नर को फोन किया और मामले की जानकारी लेने को कहा|





डेबी ने बताया कि उन्होंने अधिकारियों से 'वीजा ऑन अराइवल' की मांग की लेकिन उन्हें कोई जवाब नहीं दिया गया| उन्होंने कहा, 'एयरपोर्ट पर जो इंचार्ज लग रहा था उसने कहा कि उसे खुद कुछ नहीं पता है और जो कुछ भी हुआ, वह उसके लिए शर्मिंदा है| तो अब मैं डिपोर्ट किए जाने का इंतजार कर रही हूं, जब तक भारत सरकार का हृदय परिवर्तन नहीं हो जाए. मैं बताने के लिए तैयार हूं कि मेरे साथ अपराधी की तरह व्यवहार किया गया| मुझे उम्मीद है कि वह लोग मुझे मेरे परिवार और दोस्तों से मिलने देंगे|



आप हमसे यहां भी जुड़ सकते हैं
TheViralLines News

ईमेल : thevirallines@gmail.com
हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें : https://www.facebook.com/TVLNews
हमें ट्विटर पर फॉलो करें: : https://twitter.com/theViralLines
चैनल सब्सक्राइब करें : https://www.youtube.com/TheViralLines
Loading...

You may like

स्टे कनेक्टेड

आपके लिए

Please LIKE TVL News Page. Thank you