Ram Bahal Chaudhary,Basti
Share

SBI द्वारा बचत खाते के ब्याज दरों में 0.25% कटौती को लेकर कांग्रेस ने प्रधानमंत्री से की माँग, इस मुश्किल समय में सभी बैंकों को Deposits पर ब्याज काटने से रोके

  • by: news desk
  • 08 April, 2020
SBI द्वारा बचत खाते के ब्याज दरों में 0.25% कटौती को लेकर कांग्रेस ने प्रधानमंत्री से की माँग, इस मुश्किल समय में सभी बैंकों को Deposits पर ब्याज काटने से रोके

नई दिल्ली:  देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने मंगलवार को सभी प्रकार की बचत खाते के लिए अपनी ब्याज दर 0.25 फीसदी घटाकर 2.75 फीसदी कर दी। नई दर 15 अप्रैल 2020 से प्रभावी होगी। बैंक ने एक बयान में कहा कि बैंकिंग प्रणाली में पर्याप्त नकदी को देखते हुए एसबीआई ने सेविंग बैंक डिपॉजिट्स पर अपनी ब्याज दर में बदलाव किया है। ताजा बदलाव के बाद एसबीआई के बचत खाते की ब्याज दर 3 फीसदी से घटकर अब 2.75 फीसदी हो जाएगी।




भारतीय स्टेट बैंक द्वारा ब्याज दरों में 0.25 फीसदी कटौती पर कांग्रेस ने प्रधानमंत्री से माँग की है,इस मुश्किल समय में,सभी बैंकों को deposits पर ब्याज काटने से रोके। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, SBI के 44.51 करोड़ खाताधारकों को ब्याज में कमी से वार्षिक ₹2,879 करोड़ सालाना की लगी चपत। उन्होने आगे कहा, प्रधान मंत्री जी से आग्रह है कि इस मुश्किल समय में, सभी बैंकों को deposits पर ब्याज काटने से रोके। इसका सीधा प्रभाव नौकरी पेशा लोगों, बुज़र्गों,महिलाओं पर पड़ता है।




बता दें कि भारतीय स्टेट बैंक द्वारा सभी प्रकार की बचत खाते के लिए अपनी ब्याज दरों में 0.25 फीसदी कटौती की घोषणा के बाद यदि आपके खाते में एक लाख रुपए जमा है, तो आपका सालाना ब्याज 250 रुपए घट जाएगा। 2.75 फीसदी की नई ब्याज दर से एक लाख रुपए की जमा पर ग्राहक को अब साल में 2,750 रुपए का ब्याज मिलेगा। पहले की 3 फीसदी ब्याज दर से ग्राहक को इसी एक लाख रुपए पर साल में 3,000 रुपए का ब्याज मिल रहा था।





बैंक ने प्रमुख कर्ज दर (एमसीएलआर) में भी 0.35 फीसदी की कटौती कर दी है। यह कटौती सभी अवधि वाली एमसीएलआर में की गई है। इस कटौती के बाद एक वर्ष वाली एमसीएलआर की दर घटकर 7.40 फीसदी हो गई। पहले यह दर 7.75 फीसदी थी। एमसीएलआर की नई दर 10 अप्रैल 2020 से लागू होगी।




बैंक ने कहा कि एमसीएलआर में 2019-20 से अब तक यह लगातार 11वीं कटौती है। लोन के लिए एक वर्ष वाली एमसीएलआर को बेंचमार्क दर माना जाता है। इसका मतलब यह हुआ कि ग्राहकों को दिए जाने वाले अधिकतर लोन की ब्याज दर एक वर्ष वाली एमसीएलआर के आधार पर ही तय की जाती है। एमसीएलआर में ताजा कटौती के बाद एमसीएलआर से जुड़े 30 साल के योग्य होम लोन अकाउंट के लिए प्रत्येक एक लाख रुपए पर मासिक किस्त में 24 रुपए की कमी हो जाएगी।








आप हमसे यहां भी जुड़ सकते हैं
TheViralLines News

ईमेल : thevirallines@gmail.com
हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें : https://www.facebook.com/TVLNews
हमें ट्विटर पर फॉलो करें: : https://twitter.com/theViralLines
चैनल सब्सक्राइब करें : https://www.youtube.com/TheViralLines
Loading...

You may like

स्टे कनेक्टेड

आपके लिए

Please LIKE TVL News Page. Thank you