Ram Bahal Chaudhary,Basti
Share

कांग्रेस ने कहा राज्यों की आर्थिक और अन्य मदद करने में ईमानदारी बरते मोदी सरकार, ग्यारह मांगों पर विचार करने के लिए की अपील

  • by: news desk
  • 22 May, 2020
कांग्रेस ने कहा राज्यों की आर्थिक और अन्य मदद करने में ईमानदारी बरते मोदी सरकार, ग्यारह मांगों पर विचार करने के लिए की अपील

नई दिल्ली:  कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेरवाला ने कहा, आज कांग्रेस अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी जी के नेतृत्व में 22 राजनैतिक दलों की संयुक्त वीडियो बैठक हुई| इस बैठक की शुरुआत श्रीमती सोनिया गांधी जी के संबोधन से हुई। कई मुख्यमंत्रियों, जिनमें प. बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी जी, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे जी, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी ने भी अपनी बात रखी| 




कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा ''काफी मंत्रणा के बाद 22 राजनीतिक दलों ने भारत सरकार से 11 प्वाइंट डिमांड चार्टर मांगा है। मोदी सरकार को ये नहीं भूलना चाहिए कि ये विपक्षी दल भारत की 60-70 प्रतिशत आबादी का प्रतिनिधित्व करते हैं| रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा '' समान विचारधारा वाले राजनीतिक दलों का वक्तव्य: कोविड-19 महामारी से उत्पन्न देश की असाधारण स्थिति पर विचारों का आदान-प्रदान करने के लिए आज समान विचारधारा वाली 22 पार्टियों ने मुलाकात की|समान विचारधारा वाले दलों ने सार्वजनिक स्वास्थ्य कर्मियों, विशेष रूप से डॉक्टरों, नर्सों, पैरामेडिक्स के साथ-साथ पुलिस और सुरक्षा बलों के जवानों, सफ़ाईकर्मचारियों, जो इन चुनौतीपूर्ण समय में पानी, बिजली आदि जैसी आवश्यक सेवाओं को बनाए रखते हैं, के प्रयासों की सराहना की|





कांग्रेस नेता नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा इस संकट की तीव्रता के प्रति सचेत, समान विचारधारा वाले दलों ने केंद्र सरकार को अपना पूरा सहयोग दिया। लेकिन दुख की बात है कि केंद्र सरकार समयबद्ध, प्रभावी और संवेदनशील तरीके से अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करने में विफल रही है|केंद्र सरकार ने संवैधानिक रूप से गारंटीकृत संघीय लोकतंत्र को कमजोर करके राज्यों में निहित शक्तियों का अनादर किया है|





कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेरवाला ने कहा, यह महत्वपूर्ण है कि भारत सरकार सभी राजनैतिक दलों के साथ व्यवस्थित तरीके से बातचीत करे और सुझावों को गंभीरता से सुने। स्थायी समितियों जैसे संसदीय संस्थानों को सक्रिय करे और राज्यों की आर्थिक और अन्य मदद करने में ईमानदारी बरते| विपक्षी दल भारत के 60 प्रतिशत से अधिक लोगों का प्रतिनिधित्व करते हैं। इसलिए, हम निम्नलिखित ग्यारह मांगों को सुनने और उन पर विचार करने के लिए केंद्र सरकार से अपील करते हैं|




1- आयकर दायरे से बाहर सभी परिवारों को छह महीने के लिए 7,500 / - प्रति माह का डायरेक्ट कैश ट्रांसफर। 10,000 / - तुरंत भुगतान के साथ शेष पांच महीनों में समान रूप से|

2- सभी जरूरतमंद व्यक्तियों को अगले छह महीने तक हर महीने 10 किलो खाद्यान्न का मुफ्त वितरण। MGNREGA दिनों की संख्या बढ़ाकर 200 करें और आवश्यक बजटीय सहायता प्रदान करें



3- सभी प्रवासी श्रमिकों को उनके मूल स्थानों के लिए मुफ्त परिवहन। विदेशों में फंसे सभी भारतीय छात्रों और अन्य नागरिकों को बचाने के लिए तत्काल और विश्वसनीय व्यवस्था करें 



4- कोविद-19 संक्रमण और टेस्टिंग, बुनियादी ढांचे और युक्त प्रसार पर सटीक और प्रासंगिक जानकारी प्रदान करें। 

5- सभी एकपक्षीय नीतिगत निर्णयों, विशेषकर श्रम कानूनों को रद्द करने जैसे निर्णय वापस लें 



6- रबी की फसल की एमएसपी पर तुरंत खरीद करें और उपज को बाजार तक पहुंचाने के लिए सहायता प्रदान करें। सरकार को खरीफ की फसल की तैयारी में मदद करने के लिए किसानों को बीज, उर्वरक और अन्य इनपुट भी उपलब्ध कराने चाहिए



7- महामारी का मुकाबला करने के लिए राज्य सरकारों को पर्याप्त धनराशि जारी करें। 8- स्पष्ट शब्दों में संवाद करें। केंद्र सरकार की लॉकडाउन से बाहर निकलने की रणनीति, यदि कोई हो 9- संसदीय कामकाज को बहाल करना और तत्काल प्रभाव से निरीक्षण करना 


10- प्रचार के बजाय पुनरुद्धार और गरीबी उन्मूलन पर केंद्रित एक स्पष्ट और सार्थक आर्थिक रणनीति पेश करें। ₹20 लाख करोड़ का पैकेज और इसकी सामग्री भारत के लोगों को गुमराह करती है|हम मांग करते हैं कि सरकार एक संशोधित और व्यापक पैकेज पेश करे जो अर्थव्यवस्था में मांग को प्रोत्साहित करने के लिए एक सच्चा राजकोषीय प्रोत्साहन हो|


11- अंतर्राष्ट्रीय / घरेलू उड़ानों की अनुमति देते समय राज्य सरकारों से परामर्श करें|





बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुवाई में शुक्रवार को विपक्षी दलों की वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बैठक हुई। इस बैठक में कोरोना वायरस महामारी के बीच प्रवासी श्रमिकों की स्थिति और मौजूदा संकट से निपटने के लिए सरकार की ओर से उठाए गए कदमों और आर्थिक पैकेज पर मुख्य रूप से चर्चा हुई।कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा,  केंद्र सरकार ने खुद के लोकतांत्रिक होने का दिखावा करना भी छोड़ दिया है और इसके मन में गरीबों-मजदूरों के मन में किसी भी तरह की दया और करुणा का भाव नहीं है| सरकार की ओर से घोषित किए गए आर्थिक पैकेज में सुधारों के नाम पर केवल दिखावा ही किया गया है|'




कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी ने शु्क्रवार को विपक्षी पार्टियों के साथ बैठक के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार के तौर तरीके की आलोचना करते हुए कहा,सारी शक्ति अब एक कार्यालय, पीएमओ में केंद्रित हैं|" उन्‍होंने कहा कि "संघवाद की भावना हमारे संविधान का अभिन्न अंग है लेकिन इसे भुला दिया गया है| इस बात के कोई संकेत नहीं है कि संसद के दोनों सदनों या स्थायी समितियों को कब मिलने के लिए बुलाया जाएगा|"इस दौरान सोनिया गांधी ने पीएम के आर्थिक पैकेज को देश के साथ 'क्रूर मजाक' की तरह बताया|





कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी ने सरकार की कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ने की रणनीति पर निशाना साधा और कहा कि लगातार लॉकडाउन ने बहुत अधिक सकारात्‍मक परिणाम नहीं दिया|  कांग्रेस अध्‍यक्ष ने कहा,  ‘‘कोरोना वायरस के खिलाफ युद्ध को 21 दिनों में जीतने की प्रधानमंत्री की शुरुआती आशा सही साबित नहीं हुई| ऐसा लगता है कि वायरस दवा बनने तक मौजूद रहने वाला है| मेरा मानना है कि सरकार लॉकडाउन के मापदंडों को लेकर निश्चित नहीं थी| उसके पास इससे बाहर निकलने की कोई रणनीति भी नहीं है|




उन्‍होंने कहा कि ऐसा लगता है कि लॉकडाउन के मानदंड और इससे बाहर निकलने के मामले में सरकार में अनिश्चितता की स्थिति थी|अर्थव्यवस्था के गंभीर अवस्‍था में होने का जिक्र करते हुए सोनिया ने कहा कि लगभग हर अर्थशास्त्री ने राजकोषीय प्रोत्साहन के लिए तत्‍काल उपायों की जरूरत बताई थी| उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा करना और फिर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पांच दिनों तक इसका ब्यौरा रखे जाने के बाद यह एक क्रूर मजाक साबित हुआ|







आप हमसे यहां भी जुड़ सकते हैं
TheViralLines News

ईमेल : thevirallines@gmail.com
हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें : https://www.facebook.com/TVLNews
हमें ट्विटर पर फॉलो करें: : https://twitter.com/theViralLines
चैनल सब्सक्राइब करें : https://www.youtube.com/TheViralLines
Loading...

You may like

स्टे कनेक्टेड

आपके लिए

Please LIKE TVL News Page. Thank you