the viral line
Ram Bahal Chaudhary,Basti
Share

राज्यसभा में कृषि बिलों का विरोध करेगी TRS, कहा- इससे देश में कृषि क्षेत्र के साथ अन्याय होगा

  • by: news desk
  • 19 September, 2020
  • 0
राज्यसभा में कृषि बिलों का विरोध करेगी TRS, कहा- इससे देश में कृषि क्षेत्र के साथ अन्याय होगा

हैदराबाद: गुरुवार को लोकसभा से पास हुए किसान बिलों पर किसान और विपक्ष सरकार पर हमलावर है।लोकसभा से पास करने के बाद अब केंद्र सरकार ने किसानों जुड़े तीनो विधेयकों को राज्य सभा से पास कराने के लिए नई रणनीति बनाई है|



उधर तेलंगाना राष्ट्र समिति ने राज्यसभा में कृषि विधेयकों का विरोध करने का ऐलान किया है|| तेलंगाना राष्ट्र समिति ने शनिवार को यह कहते हुए राज्यसभा में कृषि विधेयकों का विरोध करने का ऐलान किया कि इससे देश में कृषि क्षेत्र के साथ अन्याय होगा। तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने रविवार को राज्यसभा में किसान बिल के खिलाफ मतदान करने का फैसला किया है।




लंगाना के मुख्यमंत्री और टीआरएस के अध्यक्ष के. चंद्रशेखर राव ने उच्च सदन के पार्टी सांसदों को तीन विधेयकों का कड़ाई से विरोध करने और इसके खिलाफ वोट देने के लिए कहा| चंद्रशेखर राव ने कहा,''कृषक समुदाय के लिए हानिकारक हैं और इससे कृषि क्षेत्र को भारी नुकसान होगा।उन्होंने राज्यसभा में टीआरएस नेता  डॉ. के. केशव राव से कहा कि केंद्र ने कानून बनाकर किसानों की लागत पर कॉरपोरेट घरानों को फायदा पहुंचाना है।




बता दें कि बीजेपी ने अपने सांसदों के लिए व्हिप जारी किया है| 245 सदस्यों वाली राज्य सभा में सरकार के पास बहुमत नहीं है|फिलहाल दो स्थान खाली हैं| ऐसे में बहुमत का आँकड़ा 122 है|  बीजेपी के 86 सांसद हैं। एनडीए के घटक दलों व अन्य छोटी पार्टियाँ मिला कर उसके पास  कुल 105 का संख्या बल है। 



इसमें अकाली दल के तीन सांसद शामिल नहीं हैं क्योंकि उन्होंने इन बिलों का विरोध करने का फैसला किया है|बहुमत के लिए कम पड़े 17 सांसदों के समर्थन के लिए हमेशा की तरह बीजेपी की नज़रें BJD, AIADMK, TRS, YSRC और TDP पर है। संसद के ऊपरी सदन में बीजू जनता दल  के 9, एआईएडीएमके के 9, टीआरएस के 7, वाईएसआर कांग्रेस के 6 और टीडीपी के 1 सांसद हैं। सरकार को भरोसा है कि इन विधेयकों के समर्थन में कम से कम 135 से ज्यादा वोट पड़ेंगे। 




राज्य सभा में 40 सांसदों वाली कांग्रेस दूसरी बड़ी पार्टी है जो बिलों के विरोध में है। यूपीए के अन्य दलों के सांसदों और टीएमसी को मिला कर संख्या 85 के आसपास है| इनमें एनसीपी के चार और शिवसेना के तीन सांसद भी हैं जिनसे, सरकार ने संपर्क साधा है। उधर, एनडीए गठबंधन के घटक दल शिरोमणि अकाली दल के तीन राज्यसभा सांसद बिल के विरोध में वोट करेंगे|आम आदमी पार्टी के तीन सदस्य, समाजवादी पार्टी के आठ सांसद, बीएसपी के चार सांसद भी बिल के विरोध में वोट करेंगे| यानी करीब सौ सांसद बिल के विरोध में हैं|




राज्य सभा के 10 सांसद कोरोना पॉज़िटिव पाए गए हैं जिनमें बीजेपी, कांग्रेस आदि के सांसद शामिल हैं| अलग-अलग पार्टियों के 15 सांसद इस सत्र में हिस्सा नहीं ले रहे हैं| ऐसे में सरकार को इन तीन बिलों को पारित कराने में ज़्यादा दिक्कत नहीं आएगी| विपक्ष इन्हें सेलेक्ट कमेटी में भेजने की मांग कर रहा है| अगर सरकार संख्या बल जुटाने में नाकाम रही तो विपक्ष की ये मांग स्वीकार करनी पड़ सकती है|






आप हमसे यहां भी जुड़ सकते हैं
TheViralLines News

ईमेल : thevirallines@gmail.com
हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें : https://www.facebook.com/TVLNews
हमें ट्विटर पर फॉलो करें: : https://twitter.com/theViralLines
चैनल सब्सक्राइब करें : https://www.youtube.com/TheViralLines
Loading...

You may like

स्टे कनेक्टेड

आपके लिए

आम मुद्दे और पढ़ें