Ram Bahal Chaudhary,Basti
Share

बाहर ना निकलना कैद नहीं, जब अपनों का मिलेगा प्यार तो बुजुर्ग नहीं लांघेंगें द्वार

  • by: news desk
  • 15 April, 2020
बाहर ना निकलना कैद नहीं, जब अपनों का मिलेगा प्यार तो बुजुर्ग नहीं लांघेंगें द्वार

• बाहर ना निकलना कैद नहीं, जब अपनों का मिलेगा प्यार तो बुजुर्ग नहीं लांघेंगें द्वार

• बुजुर्गो में रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने से कोरोना वायरस का खतरा अधिक

• प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य व पेय पदार्थों का करें सेवन




बलरामपुर: कोरोना से बचाव को लेकर वैसे तो हर किसी को विशेष एहतियात बरतने की जरूरत है लेकिन 60 साल से ऊपर के बुजुर्गो का खास ख्याल रखना भी बहुत जरूरी है। इस अवस्था में रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने के चलते उनके संक्रमित होने का खतरा अधिक होता है। ऐसे में उन्हें घर से बाहर निकलने से परहेज करना चाहिए लेकिन इसका यह मतलब कतई नहीं कि उन्हें कमरे में कैद कर दिया जाए। घर के हर सदस्य का फर्ज बनता है कि इस विषम परिस्थिति के समय वह घर के बुजुर्ग सदस्यों से पूरी तरह प्यार से पेश आयें और उन्हें उस तरह का माहौल प्रदान करें ताकि उनको घर से बाहर निकलने की जरूरत ही न महसूस हो।




न महसूस हो एका-कीपन
मनसिक स्वास्थ केन्द्र के क्लीनिकल साइकोलाॅजिस्ट अशोक पटेल का कहना है कि बुजुर्गों को एकाकीपन न महसूस हो, इसके लिए जरूरी है कि परिवार के अन्य सदस्य साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखते हुए उनको पर्याप्त समय दें। उनके लिए ऐसे कमरे का चयन करें जो की हवादार और खुला हुआ हो। उनके घर की बालकनी व बरामदे में टहलने की कोई पाबंदी न हो। मनोरंजन के लिए उनको टीवी पर उनके मनपसंद का सीरियल आदि देखने से न रोकें। पूजा-पाठ करते हों तो उन्हें उसको जारी रखने दें। व्यायाम करना भी ऐसे वक्त में जरूरी है। इसके लिए पार्क की जगह बरामदे और बालकनी का इस्तेमाल कर सकते हैं।





खानपान पर दें पूरा ध्यान

कोरोना वायरस के नोडल डा. ए.के. सिंघल ने बताया ऐसे समय में बुजुर्गों के खानपान पर भी पूरी तरह से ध्यान दिया जाए ताकि उनकी प्रतिरोधक क्षमता बरकरार रहे। उनको ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थ सेवन करने को दिए जाएं, जैसे- गुनगुना पानी, जूस, नीबू रस गुनगुने पानी के साथ, तुलसी-अदरक वाली चाय आदि। उनके भोजन में दूध, दही, पनीर, हरी सब्जियां और दाल की भरपूर मात्रा होनी चाहिए। मौसमी और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले फल जरूर लें। नियमित जो उपचार चल रहें हैं, उनकी दवाओं को लेते रहें। कोरोना से बचने का सही तरीका ज्यादा से ज्यादा सावधानी बरतना ही है, ताकि वायरस को पूरी तरह से खत्म किया जा सके। हाथों को बार-बार साबुन-पानी से अच्छी तरह से धोएं, हाथों से  मुंह-आँख व नाक को अनावश्यक न छुएँ, छूने के बाद हाथों को धोएं, घर के बार-बार इस्तेमाल होने वाले स्थानों की सफाई पर खास ध्यान दें और बाहरी लोगों के संपर्क में आने से बचें ।




हमने है ठाना, कोरोना को हराना

67 वर्षीय बुजुर्ग रामेश्वर प्रसाद का कहना है कि कोरोना वायरस के फैलाव को देखते हुए वह बाहर निकलने से पूरी तरह परहेज कर रहे हैं। उनकी बहू और उनके बच्चे स्कूल में छुट्टी होने के चलते उनका पूरा साथ दे रहे हैं। घर में अकेले होने के चलते पहले वह घंटों टहलने और दोस्तों से बातचीत करने में बिताते थे लेकिन परिवार के सदस्यों ने उन्हें ऐसा माहौल प्रदान किया है कि उनको बाहर निकलने की जरूरत ही नहीं महसूस होती। खानपान का भी पूरा ख्याल रखा जा रहा है ताकि कोरोना को हराने में हम पूरी तरह सफल रहें ।










रिपोर्ट-सुरेश त्रिपाठी






आप हमसे यहां भी जुड़ सकते हैं
TheViralLines News

ईमेल : thevirallines@gmail.com
हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें : https://www.facebook.com/TVLNews
हमें ट्विटर पर फॉलो करें: : https://twitter.com/theViralLines
चैनल सब्सक्राइब करें : https://www.youtube.com/TheViralLines
Loading...

You may like

स्टे कनेक्टेड

आपके लिए